दर्शन विज्ञान : कृष्ण कुमार सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Darshan Vigyan : by Shri Krishna Kumar Singh Hindi PDF Book

दर्शन विज्ञान : कृष्ण कुमार सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Darshan Vigyan : by Shri Krishna Kumar Singh Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दर्शन विज्ञान / Darshan Vigyan
Author
Category,
Pages 158
Quality Good
Size 22 MB
Download Status Available

दर्शन विज्ञान का संछिप्त विवरण : प्रस्तुत पुस्तक मे विश्व के प्रमुख दार्शिनीको के तात्विक विचारों तथा वैज्ञानिक उपलब्धियां के क्रमिक विकास को राष्ट्रभारती हिन्दी मे अभिव्यखित करने का प्रयास किया गया है। दर्शन और विज्ञान दोनों का निश्चितउद्देश्य सत्य का विवेचन करता है तो विज्ञान उसके ही अंश भूत भौतिक तत्व को अपने निरीक्षण एवं परीक्षण के आधार पर निर्धारित कर……..

Darshan Vigyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Prastut pustak me vishva ke pramukh daarshiniko ke taatvik vichaaron tatha vaigyaanik upalabdhiyaan ke kramik vikaas ko raashtrabhaarati hindi me abhivyakhit karane ka prayaas kiya gaya hai. darshan aur vigyaan donon ka nishchit uddeshya saty ka vivechan karata hai to vigyaan usake hi ansh bhoot bhautik tatv ko apane nireekshan evan pareekshan ke aadhaar par nirdhaarit kar………….
Short Description of Darshan Vigyan PDF Book : In the book presented, an attempt has been made to express the philosophical views of the world’s leading darshinichi and the gradual development of scientific achievements in Rashtrabharti Hindi. If a definite objective of both philosophy and science explains the truth, then the science determines its part in the ghost physical element on the basis of its inspection and test……………
“वह रिश्ता जो आपके परिवार को वास्तव में बांधता है, वह खून का नहीं है, बल्कि एक दूसरे के जीवन के प्रति आदर और खुशी का रिश्ता होता है।” ‐ रिचर्ड बैक
“The bond that links your true family is not one of blood, but of respect and joy in each other’s life.” ‐ Richard Bach

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment