दुसरा आढ़ा : रावत सारस्वत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Dusara Aadha : by Rawat Saraswat Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

Book Nameदुसरा आढ़ा / Dusara Aadha
Author
Category, ,
Language
Pages 86
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

दुसरा आढ़ा का संछिप्त विवरण : मध्ययुगीन राजस्थानी साहित्य में चारण कवियों की एक लम्बी और गौरवपूर्ण परम्परा रही है। ये लोग अपनी सशक्त काव्य क्षमता और प्रतिभा से क्षतीग्रचित गुणों को प्रोत्साहित करते थे। स्फूर्ति और प्रेरणा से ओतप्रोत अपने कार्य का स्वय ओजस्वी वाणी में पाठ कर ये वीरा में जैसे नए प्राण फूंक देते थे। कलम के धनी इन कवियों ने अनेक युद्धों में स्वयं ………

Dusara Aadha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Madhyayugeen Rajsthani sahity mein charan kaviyon kee ek lambi aur Gauravpoorn parampara rahi hai. Ye log apani sashakt kavy kshamata aur pratibha se kshateegrachit gunon ko protsahit karate the. Sphurti aur prerana se otaprot apane kary ka svay ojasvi vani mein path kar ye veera mein jaise naye pran phoonk dete the. Kalam ke dhani in kaviyon ne anek yuddhon mein svayan…………
Short Description of Dusara Aadha PDF Book : There is a long and glorious tradition of the Baran poets in medieval Rajasthani literature. These people were encouraged by their strong poetic ability and talent. With enthusiasm and inspiration, he used to recite his work in his own voice and give new life in Veera. These pen-rich poets themselves in many wars………..
“उद्यमी अनिवार्य रूप से कल्पनाशील और कार्यान्वित करने वाला होता है। वह कुछ कल्पना कर सकता है, तो जब वह कल्पना करता है तो यह भी साफ देख पाता है कि उसका कार्यान्वयन कैसे हो सकता है।” रॉबर्ट एल श्वार्ज़
“The entrepreneur is essentially a visualizer and an actualizer. He can visualize something, and when he visualizes it he sees exactly how to make it happen.” Robert L. Schwartz

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment