प्राचीन भारत के महान वैज्ञानिक : गुणाकर मुले द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Prachin Bharat Ke Mahan Vaigyanik : by Gunakar Mule Hindi PDF Book – History (Itihas)

प्राचीन भारत के महान वैज्ञानिक : गुणाकर मुले द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Prachin Bharat Ke Mahan Vaigyanik : by Gunakar Mule Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्राचीन भारत के महान वैज्ञानिक / Prachin Bharat Ke Mahan Vaigyanik
Author
Category, , , ,
Language
Pages 114
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : विद्यार्थियों और सामान्य पाठकों को दृष्टि में रखकर प्रस्तुत पुस्तक में प्राचीन भारत के दस वैज्ञानिकों का संक्षिप्त परिचय दिया है। इन वैज्ञानिकों के ग्रन्थ तो प्राप्प है , किन्तु इनके जीवन के बारे में हमें ठोस जानकारी नहीं मिलती। मूल ग्रन्थ संस्कृत भाषा में होने से प्रस्तुत पुस्तक की सीमा में विषयों ……….

Pustak Ka Vivaran : Vidyarthiyon aur samany pathakon ko drshti mein rakhakar prastut pustak mein pracheen bharat ke das vaigyanikon ka sankshipt parichay diya hai. In vaigyanikon ke granth to prapy hai , kintu inake jeevan ke bare mein hamen thos janakaree nahin milati. Mool granth sanskrt bhasha mein hone se prastut pustak kee seema mein vishayon…………

Description about eBook : In the book presented in view of the students and general readers, a brief introduction of ten scientists of ancient India is given. The books of these scientists are obtainable, but we do not get concrete information about their life. Topics in the range of the book presented since the original book was in Sanskrit language………………

“मूर्ख व्यक्ति स्वयं को बुद्धिमान मानता है लेकिन बुद्धिमान व्यक्ति स्वयं को मूर्ख मानता है।” विलियम शेक्सपियर
“A fool thinks himself to be wise, but a wise man knows himself to be a fool.” William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment