बड़े चाचाजी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Bade Chacha Ji : Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

बड़े चाचाजी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Bade Chacha Ji : Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बड़े चाचाजी / Bade Chacha Ji
Category, , , ,
Language
Pages 126
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उस रात को बिस्तर पर लेटे लेटे मुझे रुलाई आ गयी। दूसरे दिन क्लास की पढ़ाई के बीच थीड़ी देर की छुट्टी मिलने पर, जब शबीश गोल दीघी की छाया में घास पर लेटा हुआ एक पुस्तक पढ़ रहा था मैं बिना जान पहचान के ही उसके पास जाकर अंटसंट क्‍या क्या बक गया इसका कोई……

Pustak Ka Vivaran : Us Rat ko Bistar par lete lete Mujhe Rulai aa gayi. Doosare din Classe ki Padhai ke beech thodi der ki chhutti milane par, jab shabish gol Deeghi ki chhaya mein ghas par leta huya ek Pustak padh raha tha main bina jan Pahchan ke hi usake pas jakar Antasant kya kya bak gaya isaka koi………

Description about eBook : I cried lying down in bed that night. On the second day, when I was reading a book lying on the grass in the shadow of Gol Dighi, when I got a short break between classes, I went to him without knowing what Antsunt was talking about. ……

“मुझे तो अतीत के इतिहास से कहीं अच्छे लगते हैं भविष्य के सपने।” ‐ टॉमस जैफ़रसन (१७४३-१८२६), तीसरे अमरीकी राष्ट्रपति
“I like the dreams of the future better than the history of the past.” ‐ Thomas Jefferson (April 13, 1743–July 4, 1826), Third President of America

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment