हिन्दी और बंगला उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन : श्रीमती सन्ध्या द्धिवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Hindi Aur Bangla Upanyason Ka Tulnatmak Adhyayan : by Shrimati Sandhya Dwivedi Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameहिन्दी और बंगला उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन / Hindi Aur Bangla Upanyason Ka Tulnatmak Adhyayan
Author
Category, ,
Language
Pages 452
Quality Good
Size 26 MB
Download Status Available

पुस्तक का बिबरण : मोहभंग की सबसे अधिक तीब्र अनुभूति युवा उपन्यासों में मिलती है | और आधुनिकता बोध पर इन लेखकों को आग्रह भी सबसे अधिक है | पिछली पीढी के लेखकों की भांति इनमें पूर्वाग्रह भी कम है | यह अलग बात है की नवीन सन्दर्भ की खोज में इन्होंने तथ्य सो एकत्रित कर लिए हैं लेकिन उनकी गहराई में जाकर मूल्य दृष्टि ………

Pustak Ka Vivaran : Mohabhang ki Sabase Adhik Tivra Anubhooti Yuva Upanyason mein Milati hai. Aur Adhunikata bodh par in Lekhakon ko Agrah bhi Sabase Adhik ha.| Pichhali pidi ke Lekhakon ki bhanti Inamen purvagrah bhi kam hai. Yah Alag baat hai ki Navin Sandarbh ki khoj mein Inhonne Tathy so Ekatrit kar liye hain lekin unaki Gaharai mein jakar muly drshti………….

Description about eBook :The most intense perception of disillusionment is found in young novels. And the insistence on these writers is also the highest on modernism. Like the writers of previous generations, this bias is also less. It is a different matter that they have collected facts in search of a new context but going deeper into their values…………..

“मेरा दृष्टिकोण तो यह है कि आप इंद्रधनुष चाहते हैं तो आपको वर्षा सहन करनी ही होगी।” – डॉली पार्टन
“The way I see it, if you want the rainbow, you gotta put up with the rain.” – Dolly Parton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment