गरुड पुराण : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पुराण | Garud Puran : Hindi PDF Book – Puran

Book Nameगरुड पुराण / Garud Puran
Category, , , ,
Language
Pages 528
Quality Good
Size 3.65 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जिन परमात्मा से यह ब्रह्मा आदिरूप जगत प्रकट होता है और सम्पूर्ण जगत के कारणभूत जिन परमेश्वर में यह समस्त संसार स्थित है तथा अन्तकाल में यह समस्त जगत जिनमें लीन हो जाता है, वे दीनबंदु भगवान आज मेरे नेत्रों के समक्ष दर्शन दे | जिनके करकमल में सूर्य के समान प्रकाशमान चक्र, भारी गदा और श्रेष्ट शंख शोभित हो रहा है……..

Pustak Ka Vivaran : Jin parmatma se yah brahma aadirup jagat prakat hota hai aur sampurn jagat ke karanbhut jin parameshvar mein yah samast sansar sthit hai tatha antakaal mein yah samast jagat jinmen leen ho jaata hai, ve dinabandu bhagwan aaj mere netron ke samaksh darshan de. Jinke karkamal mein surya ke saman prakashaman chakr, bhari gada aur shresht shankh shobhit ho raha hai…………

Description about eBook : The God who manifested this Brahma Adi Vichar from God and the God who is responsible for the entire world, in this entire world, and in the end, all the world that is absorbed in it, the Deenbundu God will see before my eyes today. In whose karmas the bright circle, heavy mausoleum and fine conch………………

“उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्त्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।” ‐ मार्क ट्वेन
“Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great make you feel that you, too, can become great.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment