श्री शनि चालीसा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Shri Shani Chalisa Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name श्री शनि चालीसा / Shri Shani Chalisa
Author
Category, , ,
Language
Pages 4
Quality Good
Size 200 KB
Download Status Available

श्री शनि चालीसा पुस्तक का कुछ अंश : हिंदू धर्म में शनि देव को दंडाधिकारी माना गया है। सूर्यपुत्र शनिदेव के बारे में लोगों के बीच कई मिथ्य हैं। लेकिन मान्यता है कि भगवान शनिदेव जातकों के केवल उसके अच्छे और बुरे कर्मों का ही फल देते हैं। शनि देव की पूजा अर्चना करने से जातक के जीवन की कठिनाइयां दूर होती है। शिव पुराण में वर्णित है कि अयोध्या के राजा दशरथ ने शनिदेव को “शनि चालीसा” से प्रसन्न किया था। शनि चालीसा निम्न है। शनि साढ़ेसाती और शनि महादशा के दौरान ज्योतिषी शनि चालीसा का पाठ करने की सलाह देते हैं…………..

Shri Shani Chalisa PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Hindu Dharm mein Shani dev ko Dandadhikari mana gaya hai. Sooryaputra shanidev ke bare mein logon ke beech kayi mithy hain. Lekin manyata hai ki bhagwan shanidev jatakon ke keval usake achchhe aur bure karmon ka hi phal dete hain. Shani Dev ki pooja archana karane se jatak ke jeevan ki kathinaiyan door hoti hai. Shiv puran mein varnit hai ki ayodhya ke Raja dasharath ne shanidev ko “Shani chalisa” se prasann kiya tha. Shani chalisa nimn hai. Shani sadhesati aur shani mahadasha ke dauran jyotishi shani chalisa ka path karne ki salah dete hain…………..
Short Passage of Shri Shani Chalisa PDF Book : In Hinduism, Shani Dev has been considered as a magistrate. There are many myths among people about Suryaputra Shani Dev. But it is believed that Lord Shani Dev gives the fruits of the natives only for their good and bad deeds. By worshiping Shani Dev, the difficulties of the person’s life go away. It is described in Shiva Purana that King Dasharatha of Ayodhya had pleased Shani Dev with “Shani Chalisa”. Shani Chalisa is as follows. Astrologers recommend reciting Shani Chalisa during Shani Sade Sati and Shani Mahadasha…………..
“क्रोध एक तेजाब है जो उस बर्तन का अधिक अनिष्ट कर सकता है जिसमें वह भरा होता है न कि उसका जिस पर वह डाला जाता है।” ‐ मार्क ट्वेन
“Anger is an acid that can do more harm to the vessel in which it is stored than to anything on which it is poured.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment