विवेक चूडामणि : मुनिलाल गुप्ता द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Vivek Chudamani : by Munilal Gupta Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विवेक चूडामणि / Vivek Chudamani
Author
Category
Language
Pages 153
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

विवेक चूडामणि पुस्तक का कुछ अंश : जो अज्ञेय होकर भी सम्पूर्ण वेदान्त के सिध्दान्त-वाक्यों से जाने जाते हैं, उन परमानन्द स्वरुप सदगुरुदेव श्री गोविन्द को में प्रणाम करता हूँ| जीवों को प्रथम तो नरजन्म ही दुर्लभ है, उससे भी पुरुषत्व और उससे भी ब्राह्मणत्व मिलना कठिन है, ब्राह्मण होने से भी वैदिक धर्म का अनुगामी होना और उससे भी विद्वत्ता का होना कठिन है| (यह सब कुछ होने पर भी) आत्मा और अनात्मा विवेक, सम्यक अनुभव, ब्रह्मात्मभाव से स्थिति और मुक्ति- ये तो करोड़ो जन्मों किये हुए शुभ कर्मों के परिपाक के बिना प्राप्त हो ही नहीं सकते…………..

Vivek Chudamani PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Jo Agyey hokar bhee sampurn vedant ke sidhdaant-vakyon se jane jate hain, un paramanand svarup sadagurudev shree govind ko mein pranam karata hoon. Jeevon ko pratham to narajanm hee durlabh hai, usase bhee purushatv aur usase bhee brahmanatv milana kathin hai, brahman hone se bhee vaidik dharm ka anugamee hona aur usase bhee vidvatta ka hona kathin hai| (yah sab kuchh hone par bhee) aatma aur anatma vivek, samyak anubhav, brahmatmabhav se sthiti aur mukti- ye to karodo janmon kiye hue shubh karmon ke paripak ke bina praapt ho hee nahin sakate…………..
Short Passage of Vivek Chudamani Hindi PDF Book : I bow down to Sadgurudev Shri Govind, the embodiment of bliss, who is known by the principles and sentences of the entire Vedanta even though he is ignorant. First of all, human birth is rare for living beings, it is difficult to get manhood and even more than that, it is difficult to be a Brahmin, to be a follower of Vedic religion and to be a scholar is even more difficult than being a Brahmin. (Inspite of all this) discrimination between the soul and the non-soul, proper experience, state in the consciousness of Brahman and liberation – these cannot be attained without the accumulation of auspicious deeds done in crores of births…..
“उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्त्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।” ‐ मार्क ट्वेन
“Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great make you feel that you, too, can become great.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें