और हमने कर दिखाया : प्रेमेन्द्र श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Aur Hamne Kar Dikhaya : by Premendra Shrivastav Hindi PDF Book – Social (Samajik)

और हमने कर दिखाया : प्रेमेन्द्र श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Aur Hamne Kar Dikhaya : by Premendra Shrivastav Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name और हमने कर दिखाया / Aur Hamne Kar Dikhaya
Category
Pages 114
Quality Good
Size 77 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जब यह काम शुरू हुआ तो मुझे फोन आते कि हमारे बच्चे को भी इसमें शामिल कर लें। ऐसे में मेरा एक ही फार्मूला था कि बच्चे ने कम से कम राज्य या राष्ट्र स्तर का सम्मान जरूर प्राप्त किया हो। यह जुगत काम आयी और मैं अनावश्यक तनाव से बच सका। सभी खेल संघों ने भी भरपूर सहयोग किया। अनेक स्कूल और स्पोर्ट्स हास्टल……..

Pustak Ka Vivaran : Jab yah kam Shuroo huya to mujhe phone aate ki hamare bachche ko bhi isamen shamil kar len. Aise mein mera ek hi Farmoola tha ki bachche ne kam se kam Rajy ya Rashtr star ka samman jaroor prapt kiya ho. Yah jugat kam aayi aur main anavashyak tanav se bach saka. Sabhi khel sanghon ne bhi bharpoor sahyog kiya. Anek school aur sports hostel……..

Description about eBook : When this work started, I would get calls asking our child to be involved in it. In such a situation, my only formula was that the child must have obtained at least state or national level respect. This trick worked and I could avoid unnecessary stress. All the sports federations also cooperated a lot. Many schools and sports hostels………

“मैंने सीखा है कि लोग भूल जाते हैं कि आपने क्या कहा था, लोग भूल जाते हैं कि आपने क्या किया था, लेकिन लोग कभी नहीं भूलते कि आपने उनके साथ कैसा बर्ताव किया था।” ‐ माया एंजेलो
“I’ve learned that people will forget what you said, people will forget what you did, but people will never forget how you made them feel.” ‐ Maya Angelou

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment