बेगाने घर में : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Begane Ghar Mein : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

बेगाने घर में : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Begane Ghar Mein : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बेगाने घर में / Begane Ghar Mein
Author
Category, , , ,
Language
Pages 92
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

बेगाने घर पुस्तक का कुछ अंश : गनपत ने फकीरा से टोका-टाकी की तो वह बस, मुस्कराकर मशक अंदर ले आया और फूलों की लंबी कतार वाली सड़क पर छिड़काव करने लगा। चबूतरा तो पहले से ही धुला था। छन्नो मालिक के आने से पहले ही धो गई थी। गनपत ने वहां आराम कुर्सियां और तिपाइयां खींच दीं। मालिक शाम का……

Begane Ghar Mein PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Ganpat ne phakeera se toka-taki ki to vah bas, Muskarakar mashak andar le aaya aur phoolon ki lambi katar vali sadak par chhidakav karane laga. Chabutara to pahale se hi dhula tha. Chhanno malik ke aane se pahale hi dho gayi thi. Ganpat ne vahan Aaram kursiyan aur tipaiyan kheench deen. Malik sham ka……..
Short Passage of Begane Ghar Mein PDF Book : When Ganpat interrupted the fakira, he simply smiled, brought the flash inside and started spraying the road with long queues of flowers. The platform was already washed. Channo was washed away before the owner’s arrival. Ganpat pulled comfort chairs and tripods there. Owner evening ……..
“चिंता के समान शरीर का क्षय और कुछ नहीं करता, और जिसे ईश्वर में जरा भी विश्वास है उसे किसी भी विषय में चिंता करने में ग्लानि होनी चाहिए।” ‐ महात्मा गांधी
“There is nothing that wastes the body like worry, and one who has any faith in God should be ashamed to worry about anything whatsoever.” ‐ Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment