भय और भरोसा : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bhay Aur Bharosa : by Prafull Kolkhyan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameभय और भरोसा / Bhay Aur Bharosa
Author
Category, ,
Language
Pages 3
Quality Good
Size 226 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लेकिन प्राकृतिक विपदाओं की विनाशलीला से न सिर्फ जनमन को भीतर से आहत होता है बल्कि तंत्र के तार को भी छिन्न-भिन्न करके रख देता है। तंत्र का तार तो सहज सितार की तरह पहले भी कभी नहीं सजा था, लेकिन तंत्र के तार-तार हो चुकने से जनमन पर पड़े प्रभाव को पढ़ने में शायद मनोविज्ञान भी इस बार डरे। मनुष्य भूत से……

Pustak Ka Vivaran : Lekin Prakrtik Vipadaon ki Vinashleela se na Sirph Janman ko bheetar se Aahat hota hai balki tantr ke tar ko bhi chhinn-bhinn karke rakh deta hai. Tantra ka tar to Sahaj Sitar ki tarah pahale bhi kabhi nahin saja tha, lekin tantra ke tar-tar ho chukane se janman par pade prabhav ko padhane mein shayad Manovigyan bhi is bar dare. Manushy bhoot se……

Description about eBook : But due to the destruction of natural calamities, not only does the public get hurt from within, but it also keeps the strings of the system apart. Tantra’s strings were never decorated like Sahaj Sitar in the past, but perhaps even psychology was scared this time in reading the effect of Tantra’s strings on the public. Man from ghost……

“नन्हे शिशु के जन्म का अर्थ है कि भगवान यह चाहते हैं कि यह दुनिया बनी रहे।” ‐ कार्ल सैन्बर्ग
“A baby is God’s opinion that the world should go on.” ‐ Carl Sanburg

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment