चाणक्य शुत्रानी हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Chanakya Sutrani Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चाणक्य शुत्रानी / Chanakya Sutrani
Author
Category,
Language
Pages 691
Quality Good
Size 36 MB
Download Status Available

चाणक्य शुत्रानी पुस्तक का कुछ अंश : अपने व्यक्तिगत क्षुद्र लाभों को ही जीवन का लक्ष्य मान लेना मनुष्य का स्वविषयक घोर अज्ञान है | ऐसे मानव ने नहीं पहचाना कि मानवता का सम्बन्ध केवल अपने देह से न होकर सारे ही संसार से है | मानव से सारा ही संसार कुछ न कुछ आशा करता है। मानव संसार भर के कल्याण में भोग……….

Chanakya Sutrani PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Apane Vyaktigat Kshudra labhon ko hi jeevan ka lakshy man lena manushy ka svavishayak ghor agyan hai. Aise manav ne nahin pahachana ki manavata ka sambandh keval apane deh se na hokar sare hi sansar se hai. Manav se sara hi sansar kuchh na kuchh aasha karta hai. Manav sansar bhar ke kalyan mein bhog……….
Short Passage of Chanakya Sutrani PDF Book : To consider one’s personal petty gains as the goal of life is gross ignorance of man’s self. Such a man did not recognize that humanity is not only related to his body but to the whole world. The whole world expects something or the other from human beings. enjoyment in the welfare of the human world……….
“समय और स्वास्थ्य दो बहुमूल्य सम्पत्तियां हैं जिनकी पहचान तथा मूल्य हम उस समय तक नहीं समझते जब तक उनका नाश नहीं हो चुका होता है।” – डेनिस वेटले
“Time and health are two precious assets that we don’t recognize and appreciate until they have been depleted. ” – Denis Waitley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment