चूहे को मिली पेंसिल : वी. सुतेयेव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Chuhe Ko Mili Pencil : By V. Suteyev Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameचूहे को मिली पेंसिल / Chuhe Ko Mili Pencil
Author
Category, , , ,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 865 KB
Download Status Available

चूहे को मिली पेंसिल का संछिप्त विवरण : चूहा अपनी पेंसिल लेकर अपने बिल में घुस गया। “मुझे छोड़ दो, मुझे जाने दो, “पेंसिल चूहे से गिड़गिड़ाकर बोली।”मैं तुम्हारे किस काम की हूँ, लकड़ी का टुकड़ा हूँ। खाने में भी अच्छी नहीं लगूंगी।” “मैं तुम्हें कुतरुंगा, “चूहे ने कहा। “मुझे अपने दांत पैने और छोटे रखने के लिए हमेशा कुछ न कुछ कुतरना पड़ता है।” और, चूहे ने पेंसिल……..

Chuhe Ko Mili Pencil PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Chooha Apani Pencil lekar apane bil mein ghus gaya. Mujhe chhod do, mujhe jane do, Pencil choohe se Gidagidakar boli. Main Tumhare kis kam kee hoon, lakadi ka Tukada hoon. Khane mein bhee Achchhi nahin Lagungi. Main Tumhen Kutarunga, choohe ne kaha. Mujhe Apane Dant paine aur chhote rakhane ke liye Hamesha kuchh na kuchh kutarana padata hai. Aur, choohe ne Pencil……..
Short Description of Chuhe Ko Mili Pencil PDF Book : The rat entered his bill with his pencil. “Leave me, let me go,” said the pencil with a mouse. “I am a piece of wood for what use you are.” I will not like to eat either. “” I will bitch you, “said the rat. “I always have to gnaw something to keep my teeth sharp and small.” And, the rat pencils ……..
“काम को सही करने से अधिक महत्त्वपूर्ण यह है कि सही काम ही किये जावें।” ‐ पीटर ड्रकर
“It is more important to do right thing than to do things right.” ‐ Peter Drucker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment