हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

धर्मपुत्र / Dharmputra

धर्मपुत्र : आचार्य चतुरसेन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Dharmputra : by Acharya Chatursen Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name धर्मपुत्र / Dharmputra
Author
Category, , , ,
Language
Pages 126
Quality Good
Size 1.3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कृष्ण चन्दर को एक पार्टी दी गई थी। पार्टी दिल्ली के एक प्रतिष्ठित प्रकाशक ने दी थी। निमन्त्रण मुझे भी मिला। गो यह एक नई बात थी। आमतौर पर मुझे लोग पार्टियों में बुलाते-उलाते नहीं। नई दिल्‍ली के एक शानदार होटल में पार्टी का आयोजन था। पार्टी में अनेक प्रकाशक, साहित्यिक, पत्रकार और अध्यापक भी थे। ओर मैं तो था ही……

Pustak Ka Vivaran : krishn chandar ko ek Parti di gayi thee. Party del‍hi ke ek pratishthit prakashak ne di thi.  Nimantran mujhe bhi mila. Go yah ek nayi bat thi. Aamtaur par mujhe log partiyon mein bulate-ulate nahin. Nayi del‍hi ke ek shandar hotel mein Party ka aayojan tha. Party mein anek prakashak, sahityik, patrakar aur adhyapak bhee the. Aur main to tha hi…….

Description about eBook : A party was given to Krishna Chander. The party was given by a reputed publisher of Delhi. I got the invitation too. Go this was a new thing. Usually people do not invite me to parties. The party was organized in a luxurious hotel in New Delhi. There were also many publishers, literary figures, journalists and teachers in the party. And so was I……

“अपनी सामर्थ्य का पूर्ण विकास न करना दुनिया में सबसे बड़ा अपराध है। जब आप अपनी पूर्ण क्षमता के साथ कार्य निष्पादन करते हैं, तब आप दूसरों की सहायता करते हैं।” ‐ रोजर विलियम्स
“The greatest crime in the world is not developing your potential. When you do your best, you are helping others.” ‐ Roger Williams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment