ग़बन- मुंशी प्रेमचंद मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Gaban by Munshi Premchand Hindi Book Download

Book Nameग़बन / Gaban
Author
Category, ,
Language
Pages 342
Quality Good
Size 15.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बरसात के दिन हैं, सावन का महीना | आकाश से सुनहरी बढाएँ छायी हुई हैं। रह-रहकर रिम-झिम वर्षा होने लगती है । अभी तीसरा पहर है : पर ऐसा मालूम हो रहा है, शाम हो गयी । आमों के बाग में झूला पड़ा हुआ है। लडकियाँ भी झूल रही हैं और उनकी माताएँ भी। दो-चार झूल रही हैं, दो चार झुला रही है। कोई कजली गाने लगती है, कोई बारहमासा | इस ऋतु मे महिलाओं की बाल-स्मृतियाँ भी जाग उठतीं हैं । ये फुहारे मानों चिन्ताओं को हृदय से धो डालती हैं : मानों मुरझाये हुए मन को भी हरा कर देती है । सब के दिल उमंगों से भरे रे हुए है । धानी साड़ियों ने प्रकृति की हरियाली से नाता जोडा है ।……….

Pustak ka vivaran : Barasaat ke din hain, saavan ka mahina | aakaash se sunahari badhaen chhaayi hui hain. rah-rahakar rim-jhim varsha hone lagati hai. Abhi tisara pahar hai : par aisa maaloom ho raha hai, shaam ho gayi. Aamon ke baag mein jhoola pada hua hai. Ladakiyaan bhi jhool rahi hain aur unaki maataen bhi. do-chaar jhool rahi hain, do chaar jhula rahi hai. koi kajali gaane lagati hai, koi baarahamaasa | is rtu me mahilaon ki baal-smrtiyaan bhee jaag uthateen hain . ye phuhaare maanon chintaon ko hrday se dho daalati hain : maano murajhaaye hue. man ko bhi hara kar deti hai . sab ke dil umangon se mare hue hai. Dhaani saadiyon ne prakrti ki hariyaali se naata joda hai…………

Book Description : There are rainy days, the month of Sawan. Golden ebbs are covered from the sky. It starts raining every now and then. It is now the third watch: but it seems that it is evening. There is a swing installed in the Mango orchard. The girls are swinging and their mothers too. Two or four are swinging, two or four are swinging. Some Kajali starts singing, some Barhamasa. In this season the child memories of women also wake up. These sprays wash away the worries from the heart: as if they beat even a withered mind. Everyone’s heart is filled with excitement. Dhani sarees have associated with the greenery of nature.

“मैंने प्रेम को ही अपनाने का निर्णय किया है। द्वेष करना तो बेहद बोझिल काम है।” मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“I have decided to stick with love. Hate is too great a burden to bear.” Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

3 thoughts on “ग़बन- मुंशी प्रेमचंद मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Gaban by Munshi Premchand Hindi Book Download”

  1. I am so much happy to know that I am reading FREE HINDI BOOKS ONLINE OR AS A PDF MODE. Sir, I am absolutely helped by your website.
    WITH REGARDS.

    Reply
  2. महोदय, नमस्कार।
    आपकी इस साईट के माध्यम से कई हिंदी पुस्तकें मुफ्त पढ़ने को मिली। हिंदी साहित्य के प्रसार के लिए आपका प्रयास अनुकरणीय है।
    गबन- प्रेमचंद उपन्यास कई प्रयास के पश्चात भी डाऊनलोड नहीं हो सका, कृ इस निमित्त कुछ करना चाहेंगे। सादर।

    Reply
    • नमस्कार महोदय, आपने जो सुझाव दिया उसके लिए धन्यवाद्| लिंक अपडेट कर दिया गया है अब आप पुस्तक डाउनलोड कर सकते हैं| धन्यवाद्|

      Reply

Leave a Comment