गांवों में औषधरत्न भाग-3 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ganvon Mein Aushadhratna Bhag-3 Hindi PDF Book

गांवों में औषधरत्न भाग-3 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Ganvon Mein Aushadhratna Bhag-3 Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गांवों में औषधरत्न भाग-3 / Ganvon Mein Aushadhratna Bhag-3
Category, ,
Pages 536
Quality Good
Size 23 MB
Download Status Available

गांवों में औषधरत्न भाग-3 का संछिप्त विवरण : सामान्य जनता की अमवाली मिथ्या भावना को जानकर दु:ख होता है और विशेष कर दु:ख इस बातका है कि,जनता को उन गुमराह करने वाले दुकानदार जो मात्र अपने अल्प लोभ के कारण अपने कर में फ़ांस लेते हैं और जनता के स्वास्थ्य की कुछ भी परवाह नहीं करते हैं। श्रीहरि उन दुकानदार को एक भोली जनता को सुब॒द्ि दें, यही प्रार्थना है………

Ganvon Mein Aushadhratna Bhag-3 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Samany janata ki bhramavali mithya bhavana ko janakar dukh hota hai aur vishesh kar dukh is bat ka hai ki, janata ko un gumarah karane vale dukanadar jo matr apane alp lobh ke karan apane kar mein fans lete hain aur janata ke svasthy ki kuchh bhi paravah nahin karate hain. Shrihari un dukanadar ko ek bholi janata ko subuddhi den, yahi prarthana hai……….
Short Description of Ganvon Mein Aushadhratna Bhag-3 PDF Book : Sadly, it is sad to know the misconceptions of the general public, and especially, sadly, the shopkeepers who mislead the masses, who, in spite of their little covetousness, hang in their taxes and some of the public’s health Do not care too. Shree Hari, give those shopkeepers the wisdom of a naive person, that is the prayer…………
“आपको अपने भीतर से ही विकास करना होता है। कोई आपको सीखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको सिखाने वाला और कोई नहीं, सिर्फ आपकी आत्मा ही है।” ‐ स्वामी विवेकानंद
“You have to grow from the inside out. None can teach you, none can make you spiritual. There is no other teacher but your own soul.” ‐ Swami Vivekananda

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment