घर की खोज : हेमंत कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Ghar Ki Khoj : by Hemant Kumar Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameघर की खोज / Ghar Ki Khoj
Author
Category, ,
Pages 19
Quality Good
Size 18.5 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

घर की खोज का संछिप्त विवरण : अब हाथी ने सोचा शेर तो बड़ा होता है। क्यों न उसका भी घर देख लिया जाए। हाथी चल पड़ा शेर की गुफा की ओर। गुफा खाली थी। हाथी को लगां कि मौका अच्छा है। वह तेजी से गुफा के अन्दर घुसा। पर यह क्या? गुफा में उसकी पीठ फँस गयी। अब न वह आगे जा पा रहा था न पीछे। बहुत कोशिश करने के बाद वह किसी तरह से बाहर आया। बाहर आकर उसने खुली हवा में साँस लीं। अपना पसीना सुखाया…..

Ghar Ki Khoja PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ab Hathi ne Socha sher to bada hota hai. Kyon na Usaka bhee ghar dekh liya jaye. Hathi chal pada sher kee gupha kee or. Gufa khali thee. Hathi ko Lagan ki mauka achchha hai. Vah Teji se Gufa ke andar ghusa. Par yah kya? Gufa mein usaki peeth phans gayi. Ab na vah Aage ja pa raha tha na peechhe. Bahut koshish karane ke bad vah kisee tarah se bahar Aaya. Bahar Aakar usane khulee hava mein Sans leen. Apana Paseena sukhaya……
Short Description of Ghar Ki Khoj PDF Book : Now elephant thought lion is bigger. Why not see his house too. The elephant walked towards the lion’s cave. The cave was empty. Let the elephant know that the chance is good. He quickly entered the cave. But what is this? He stuck his back in the cave. Now he was neither able to go forward nor backward. After trying hard he somehow came out. She came out and breathed in the open air. Dried my sweat ……
“हम जब तक खुद मां बाप नहीं बन जाएं, मां बाप का प्यार कभी नहीं जान पाते।” ‐ हेनरी वार्ड बीचर, (१८१३-१८८७), अमरीकी पादरी
“We never know the love of a parent till we become parents ourselves.” ‐ Henry Ward Beecher, (1813-1887), American Clergyman

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment