हिमप्रस्थ जुलाई, 2018 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Himprasth July, 2018 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

Book Nameहिमप्रस्थ जुलाई, 2018 / Himprasth July 2018
Category, , , , , , , , , , ,
Language
Pages 52
Quality Good
Size 4.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अगर भैंसा उसी तरफ वापिस आ जाता था तो उसे बुरा माना जाता था। लोगों की भीड़ दूरदराज के गांवों से मिंजर मेले के अंतिम दिन यात्रा को देखने के लिए आती थी। 1947 में इस प्रथा को समाप्त कर दिया गया और अब सिर्फ मिंजर का ही विसर्जन किया जाता है। अब भैंसे की जगह सांकेतिक रूप से नारियल की बलि दी जाती है। बताया जाता……

Pustak Ka Vivaran : Agar Bhainsa usi taraph vapis aa jata tha to use bura mana jata tha. Logon ki bheed doordaraj ke Ganvon se minjar mele ke antim din yatra ko dekhane ke liye aati thi. 1947 mein is pratha ko samapt kar diya gaya aur ab sirph minjar ka hi visarjan kiya jata hai. Ab Bhainse ki jagah sanketik roop se Nariyal kei bali di jati hai. Bataya jata………

Description about eBook : If the buffalo returned to the same side, it was considered bad. Crowds of people used to come from remote villages to watch the yatra on the last day of Minjar fair. This practice was abolished in 1947 and now only Minjar is immersed. Now instead of buffalo, coconut is sacrificed symbolically. Told………

“धैर्य रखें। सभी कार्य सरल होने से पहले कठिन ही दिखाई देते हैं।” ‐ सादी
“Have patience. All things are difficult before they become easy.” ‐ Sadi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “हिमप्रस्थ जुलाई, 2018 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Himprasth July, 2018 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)”

  1. मैं हिमप्रस्थ की नियमित पाठिका बनना चाहती हूं।कृपया मार्गदर्शन करें।

    Reply

Leave a Comment