मैं नहीं माखन खायो : प्रेम जनमेजय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Main Nahin Makhan Khayo : by Prem Janmejay Hindi PDF Book – Story (Kahani)

मैं नहीं माखन खायो : प्रेम जनमेजय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Main Nahin Makhan Khayo : by Prem Janmejay Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मैं नहीं माखन खायो / Main Nahin Makhan Khayo
Author
Category, , , ,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

मैं नहीं माखन खायो पुस्तक का कुछ अंश : कहते हैं दिल्‍ली कई बार उजडी है, कई बार बसी है, बसी हुई दिल्‍ली को उजाडने के लिए लुटेरे बादशाह आते थे और दिल्‍ली को उजाड कर चले जाते थे। आजकल रूप बदल गया है। दिल्‍ली उजड नही रही है, दूसरो को उजाड रही है। बादशाह आजकल यही बस गये है। देश उजड़ रहा है और दिल्‍ली फल फूल रही है। केंद्र को मजबूत करने के नारे लगाए……

Main Nahin Makhan Khayo PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Kahate hain Delhi kayi bar ujadi hai, kayi bar basi hai, basi huyi Delhi ko ujadane ke liye lutere badshah aate the aur Delhi ko ujad kar chale jate the. Aajkal roop badal gaya hai. Delhi ujad nahi rahi hai, doosaro ko ujad rahi hai. Badshah Aajkal yahi bas gaye hai. Desh ujad raha hai aur Delhi phal phool rahi hai. Kendra ko majboot karane ke nare lagaye……..
Short Passage of Main Nahin Makhan Khayo PDF Book : It is said that Delhi is desolate many times, it is inhabited many times, robber emperors used to come to raze Delhi and go to Delhi. Nowadays the form has changed. Delhi is not destroyed, it is devastating others. These days the king has settled here. The country is desolate and Delhi is flourishing. Slogans to strengthen the center ……..
“गति और प्रगति में संदेह न करें। कोल्हू के बैल दिन भर चलते हैं लेकिन कोई प्रगति नहीं करते है।” ‐ अल्फ्रेड ए. मोन्टापर्ट
“Do not confuse motion and progress. A rocking horse keeps moving but does not make any progress.” ‐ Alfred A. Montapert

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment