मुग़ल साम्राज्य और राजपूत : डॉ. प्रदीप शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Mugal Samrajya Aur Rajput : by Dr. Pradeep Shukla Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Nameमुग़ल साम्राज्य और राजपूत / Mugal Samrajya Aur Rajput
Author
Category, ,
Language
Pages 252
Quality Good
Size 38 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भारत में मुगल साम्राज्य का संस्थापक बाबर स्वयं को तैमूर का वारिस मानता था और इस नाते तैमूर के सारे साम्राज्य पर अपना अधिकार समझता था। तैमूर के मध्य एशियाई साम्राज्य पर कब्जे के लिए शैफानी खाँ उजबेक से कई लडाईयाँ हारने के बाद बाबर ने दक्षिण एशिया के समृद्ध भू-भाग हिन्दुस्तान की ओर नजर की । तैमूर इसके एक इलाके को जीत चुका था और बाबर………

Pustak Ka Vivaran : Bharat mein Mugal samrajy ka sansthapak babar svayan ko Taimur ka baris manata tha aur is nate taimur ke sare samrajy par apana adhikar samajhata tha. Taimoor ke madhy Ashiai samrajy par kabje ke liye shaiphani khan ujabek se kai ladaiyan harane ke bad babar ne dakshin Asian ke samrddh bhoo-bhag hindustan ki or Najar ki . Taimoor isake ek ilake ko jeet chuka tha aur babar………..

Description about eBook : Babur, the founder of the Mughal Empire in India, considered himself the heir of Timur and thus considered his authority over the whole of Timur’s empire. After losing many battles with Shaifani Khan Uzbek to capture the Central Asian Empire of Timur, Babur looked towards the rich land of Hindustan in South Asia. Timur had conquered one of its areas and Babur ………….

“जीवन की आधी असफलताओं का कारण व्यक्ति का अपने घोड़े के छलांग लगाते समय उसकी लगाम खींच लेना होता है।” ‐ चार्ल्स हेयर
“Half the failures of this world arise from pulling in one’s horse as he is leaping.” ‐ Augustus Hare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment