नई परख : रमेश गौतम द्वारा मुफ्त हिंदी नाटक पीडीएफ पुस्तक | Nai Parakh : by Ramesh Gautam Free Hindi Natak PDF Book

Book Nameनई परख / Nai Parakh
Author
Category,
Language
Pages 15 MB
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

नई परख का संछिप्त विवरण : हिंदी नाटक की सर्जनात्मकता का इतिहास लगभग सवा सौ साल पुराना है| आधुनिकता के प्रवेश-द्वार भारतेंदु काल से हिंदी नाटकों की शुरुआत मानी जाती है| तब से लेकर अब तक विकास और बदलाव के कई पड़ावों से गुजरते हुए हिंदी नाटक की सर्जनात्मक भूमिका बनी है……

Nai Parakh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hindi Natak ki Sarjanatmakata ka itihas lagbhag sava sau sal purana hai. Aadhunikata ke pravesh-dvar bharatendu kal se hindi natakon ki shuruat mani jati hai. Tab se lekar ab tak vikas aur badlav ke kayi padavon se gujarate huye hindi natak ki Sarjanatmak bhoomika bani hai……
Short Description of Nai Parakh PDF Book : The history of the creativity of Hindi drama is about one hundred and fifty years old. The beginning of Hindi plays is considered to be from the Bharatendu period, the gateway of modernity. Since then, Hindi drama has become a creative role, passing through many stages of development and change….
“प्रेम करने वाला व्यक्ति प्रेम की दुनिया में रहता है। झगड़ालू व्यक्ति युद्ध जैसी दुनिया में रहता है। प्रत्येक ऐसा जिससे आप मिलते हैं, वह आपकी ही छवि होती है।” ‐ केन कैन्स, जूनियर
“A loving person lives in a loving world. A hostile person lives in a hostile world. Everyone you meet is your mirror.” ‐ Ken Keyes, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment