पहाड़ी भाषा : मौलूराम ठाकुर द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Pahari Bhasha : by Molu Ram Thakur Hindi PDF Book

पहाड़ी भाषा : मौलूराम ठाकुर द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Pahari Bhasha : by Molu Ram Thakur Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पहाड़ी भाषा / Pahari Bhasha
Author
Category, ,
Language
Pages 340
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पहाड़ी भाषा का संछिप्त विवरण : आज जब मे निराशा और प्रतीक्षा के ताने बाने मे सजोय जीवन के बीए क्षणो के पीछे मूड कर देखता हु तो स्मृति पटल पर न जाने कया क्या स्पष्ट तथा धुंधले चित्रा अंकित होने लगते हैं आज से पूरे पंद्रह वर्ष पूर्व आशातीत जीवन पथ पर आज तक का पहला और अंटीं मोड आया था | मैं कार्यालय न्‍्के लिपिकीय धंधे से विमुक्त होकर अपनी इच्छा के अनुकूल……

 

Pahari Bhasha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Aaj jab me niraasha aur prateeksha ke taane baane me sajoy jeevan ke bhee shano ke peechhe mood kar dekhata hu to smrti patal par na jaane kya kya spasht tatha dhundhale chitra ankit hone lagate hain aaj se poore pandrah varsh poorv aashaateet jeevan path par aaj tak ka pahala aur anteen mod aaya tha. main kaaryaalay nke lipikeey dhandhe se vimukt hokar apanee ichchha ke anukool…………
Short Description of Pahari Bhasha PDF Book : Today, when I look after the moments of good life in favor of frustration and waiting, I do not see on the memory panel what clear and dull images begin to be recorded today, today, on the path of hope, till today, fifteen years ago. First and last mode came. I am free from the clerical business of the office and willing to…………..
“जब हम किसी नई परियोजना पर विचार करते हैं तो हम बड़े गौर से उसका अध्ययन करते हैं – केवल सतह मात्र का नहीं, बल्कि उसके हर एक पहलू का।” ‐ वाल्ट डिज़्नी
“When we consider a new project, we really study it – not just the surface idea, but everything about ¡t.” ‐ Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment