पातिमोक्ख : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Patimokkha : Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

पातिमोक्ख : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Patimokkha : Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पातिमोक्ख / Patimokkha
Author
Category, ,
Language
Pages 257
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पातिमोक्ख का संछिप्त विवरण : बौद्ध विनय की उत्पत्ति तथागत भगवान बुद्ध से ही हुई है। सम्बोधि प्राप्ति के बाद बुद्ध ने सर्वप्रथम पंचवर्गीय भिक्षुओं को धर्मोपदेश दिया। उनमे कौडिन्य की मध्यम मार्ग और चतुरारीसत्य का ज्ञान होने पर जो कुछ उत्पन होने वाला है वह नाशवान है। यह विरज निर्मल धर्मनेत्र उत्पन्न हो गया। उसका अनुसरण करने पर वष्प भद्दीय, महानाम और अश्व्जीत को भी धर्मचक्षु प्राप्त ही…….

Patimokkha PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bauddh Vinay ki utpatti Tathagat bhagvan buddh se hi huyi hai. Sambodhi prapti ke bad buddh ne sarvapratham panchavargeey bhikshuon ko dharmopadesh diya. Uname Kaudiny kee madhyam maarg aur chaturarisaty ka gyan hone par jo kuchh utpan hone vala hai vah Nashavan hai. Yah Viraj Nirmal dharmanetra utpann ho gaya. Usaka Anusaran karane par vapp bhaddeey, Mahanam aur ashvjeet ko bhi dharmachakshu prapt hi……..
Short Description of Patimokkha PDF Book : Buddhist Vinaya has its origin from the Tathagata Lord Buddha. After attaining Sambodhi, Buddha first gave sermons to the Panchavargiya monks. Whatever is going to happen when they have knowledge of the middle path of Kaudinya and cleverness is perishable. This Virj Nirmal Dharmanetra was born. After following him, Vapp Bhadiya, Mahanam and Ashwajit also got religious blessings …….
“प्रेरणा कार्य आरम्भ करने में सहायता करती है। आदत कार्य को जारी रखने में सहायता करती है।” ‐ जिम रयून
“Motivation is what gets you started. Habit is what keeps you going.” ‐ Jim Ryun

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment