पीलू की गुल्ली : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Peeloo Ki Gulli : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameपीलू की गुल्ली / Peeloo Ki Gulli
Author
Category,
Language
Pages 19
Quality Good
Size 822 KB
Download Status Available

पीलू की गुल्ली का संछिप्त विवरण : एक दिन रानी के घर में सुबह से हलचल थी। सुबह से ही आवाजें आ रही थी। आवाजों से नींद खुल गई। उसने रमा को भी जगा दिया। रानी उठकर आँगन में आ गई। आँगन में बहुत चहल-पहल थी। सब अपने-अपने काम में लगे हुए थे। वह सबको देखने लगी। पापा चूल्हें पर पतीला चढ़ा रहे थे……….

Peeloo Ki Gulli PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ek din Rani ke ghar mein subah se halachal thee. Subah se hee aavajen aa rahee thee. Avajon se neend khul gayi. Usane Rama ko bhee jaga diya. Rani uthakar aangan mein aa gayo. Angan mein bahut chahal-pahal thee. Sab apane-apane kam mein lage huye the. Vah sabako dekhane lagi. Papa choolhen par pateela chadha rahe the…………
Short Description of Peeloo Ki Gulli PDF Book : One day the queen’s house was stirred from the morning. The voices were coming from the morning. Sleep with the voices opened He also woke up Rama. The queen got up and got into the courtyard. There was a lot of excitement in the courtyard. All were engaged in their work. He started looking at everyone. Papa was offering husbands on the husks………..
“यदि आप किसी बाह्य कारण से परेशान हैं, दो परेशानी उस कारण से नहीं, अपितु आपके द्वारा उसका अनुमान लगाने से होती है, और आपके पास इसे किसी भी क्षण बदलने का सामर्थ्य है।” मैर्कस औयरिलियस
“If you are distressed by anything external, the pain is not due to the thing itself, but to your estimate of it; and this you have the power to revoke at any moment.” Marcus Aurelius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment