संस्कृत सहित्य का इतिहास हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Sanskrit Sahitya Ka Itihas Hindi Book Free Download

Book Nameसंस्कृत सहित्य का इतिहास / Sanskrit Sahitya Ka Itihas
Author
Category, , ,
Language,
Pages 1114
Quality Good
Size 63.8 MB
Download Status Available

संस्कृत सहित्य का इतिहास का संछिप्त विवरण : इतिहास का क्षेत्र अनन्त और दुर्ग है। संस्क्रत-साहिस्य का इतिहास छिखनेवाले विद्वानों को इतिहास की इस अनन्तता और दुर्गमता से जूझने के लिए बढ़ा श्रम करना पड़ा; क्योंकि सहस्रों वर्षों तक श्रुति और स्मृति द्वारा संरक्षित संस्कृत-वाराय की उन सुचिन्तित विचारधाराओं के मूल तक पहुँचना साधारण कार्य नहीं था।……………..

Sanskrit Sahitya Ka Itihas PDF Pustak ka Sanchhipt Vivaran : Itihas ka kshetr anant aur durg hai. Sanskrat-saahisy ka itihas chhikhanevale vidvanon ko itihas ki is anantata aur durgamata se joojhane ke lie badha shram karana pada; kyonki sahasron varshon tak shruti aur smrti dvara sanrakshit sanskrt-varay ki un suchintit vicharadharaon ke mool tak pahunchana sadharan kary nahin tha……..

Short Description of Sanskrit Sahitya Ka Itihas PDF Book : The field of history is infinite and fortified. The scholars, who were hiding the history of Sanskrit literature, had to work hard to deal with this infinity and inaccessibility of history; Because it was not an ordinary task to reach the root of those well thought out ideologies of Sanskrit-Varaya preserved by Shruti and Smriti for thousands of years…….

“हमें जो मिलता है, उससे हम जीविका बना सकते हैं; लेकिन हम जो देते हैं, वह जीवन बनाता है।” आर्थर एशे
“From what we get, we can make a living; what we give, however, makes a life.” Arthur Ashe

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “संस्कृत सहित्य का इतिहास हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Sanskrit Sahitya Ka Itihas Hindi Book Free Download”

  1. आपकी इस स्तुत्य निःस्वार्थ सेवा से आपके कर्मयोग व मुमुक्षुत्व का दिग्दर्शन करके व ग्रन्थप्रेरित होकर परमार्थ तत्व तल्लीनता करते हुए का आपको हार्दिक धन्यवाद!

    Reply

Leave a Comment