सोच विचार हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Soch-Vichar Hindi PDF Book

सोच विचार हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Soch-Vichar Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सोच विचार / Soch-Vichar
Author
Category, ,
Pages 130
Quality Good
Size 11.37 MB
Download Status Available

सोच विचार का संछिप्त विवरण : बहुत पहले की बात कहते हैं | इतिहास वहाँ नहीं जाता । न यथार्थ जाता है। कल्पना ही बहाँ पहुँचती है। आदमी जंगल से लौटकर आया | खाल ओठढे था, पत्थर की बरछी हाथ में थी और कन्धे पर मरा हुआ एक हिरन था | हिरन को बाहर पटका और अपने भिट के अन्दर वह आदमी गया। देखता क्‍या है कि स्त्री गुमसुम पड़ी हैं, पथराई उसकी आँखें बिन देखे ऊपर जाने क्या देख रही हैं…..

Soch-Vichar PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bahut pahale ki bat kahate hain. Itihas vahan nahin jata. Na yatharth jaata hai. Kalpana hi vahan pahunchati hai. Adami jangal se lautakar aya. Khal odhe tha, patthar ki barachhi hath mein thi aur kandhe par mara hua ek hiran tha . Hiran ko bahar pataka aur apane bhit ke andar vah adami gaya. Dekhata kya hai ki stri gumasum padi hain, patharai usaki ankhen bin dekhe oopar jane kya dekh rahi hain…………
Short Description of Soch-Vichar PDF Book : Long ago talk about History does not go there. It is not realistic. Imagine reaches only there. Man came back from the forest and came back. The skull was open, the stone was in the hand and there was a deer dead on the shoulder. The deer was thrown out and the man inside his bosom got the man out. See what the woman is missing, Pataraai is looking at her eyes without looking up………….
“हमारे द्वारा कार्य के लिए लगाए गए समय महत्त्व का इतना नहीं है, जितना महत्त्व इस बात का है कि लगाए गए समय के दौरान हमने कितनी गंभीरता से प्रयास किया।” ‐ सिडने मैडवैड.
“It is not the hours we put in on the job, it is what we put into the hours that counts.” ‐ Sidney Madwed

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment