सुकरात का मुकदमा और उनकी मृत्यु मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Sukarat Ka Mukadma Aur Unki Mrityu Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सुकरात का मुकदमा और उनकी मृत्यु / Sukarat Ka Mukadma Aur Unki Mrityu
Author
Category,
Language
Pages 162
Quality Good
Size 10 MB
Download Status Available

सुकरात का मुकदमा और उनकी मृत्यु पुस्तक का कुछ अंश : आज हम जिसे यूरोपीय सभ्यता और संस्कृति के नाम से जानते हैं, उसमें निश्चित रूपसे ग्रीस का सबसे अधिक दान है। यों तो यह कहा जाता है कि यूरोप ने रोमनों से कानून की एक महान पद्धति तथा उसके साथ ही साथ राज्य-संचालन का कौशल प्राप्त किया, जूडिया से धर्म पाया और ग्रीस से दर्शन, विज्ञान और साहित्य पाया, पर……..

Sukarat Ka Mukadma Aur Unki Mrityu PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Aaj Ham jise EUropiya sabhyata aur sanskrti ke nam se janate hain, usamen nishchit roopase grees ka sabase adhik dan hai. Yon to yah kaha jata hai ki Europ ne romanon se kanoon ki ek mahan paddhati tatha usake sath hi sath Rajy-sanchalan ka kaushal prapt kiya, joodiya se dharm paya aur greess se darshan, vigyan aur sahity paya, par……..
Short Passage of Sukarat Ka Mukadma Aur Unki Mrityu Hindi PDF Book : In what we know today as European civilization and culture, Greece definitely has the biggest contribution. Thus it is said that Europe received from the Romans a great system of law as well as statecraft, religion from Judaea and philosophy, science and literature from Greece, but…… ..
“हमें न अतीत पर कुढ़ना चाहिए और न ही हमें भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए; विवेकी व्यक्ति केवल वर्तमान क्षण में ही जीते हैं।” ‐ चाणक्य
“We should not fret for what is past, nor should we be anxious about the future; men of discernment deal only with the present moment.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment