स्वयंसेवी संगठनों का गठन और प्रबंधन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Svayansevi Sangthanon Ka Gathan Aur Prabandhan : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

स्वयंसेवी संगठनों का गठन और प्रबंधन : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Svayansevi Sangthanon Ka Gathan Aur Prabandhan : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name स्वयंसेवी संगठनों का गठन और प्रबंधन / Svayansevi Sangthanon Ka Gathan Aur Prabandhan
Author
Category, ,
Language
Pages 460
Quality Good
Size 31 MB
Download Status Available

स्वयंसेवी संगठनों का गठन और प्रबंधन का संछिप्त विवरण : किसी भी ग्राम अथवा नगर के विकास के लिए सबसे बड़ा संसाधन वहां के लोग हैं। विकास की समस्याओं का हल समाज द्वारा ही संभव हैं। ग्राम अथवा नगर का विकास तब तक संभव नही हो पायेगा”जब तक कि उसमें स्थानीय जन भागीदारी सुनिश्चित न हो। स्थानीय स्तर की समस्याओं व उनके समाधान की बेहतर जानकारी उन्हीं के पास है……..

Svayansevi Sangthanon Ka Gathan Aur Prabandhan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kisi bhi Gram athava nagar ke vikas ke liye sabase bada sansadhan vahan ke log hain. Vikas ki Samasyayon ka hal samaj dvara hi sambhav hain. Gram athava nagar ka vikas tab tak sambhav nahi ho payega”jab tak ki usamen sthaniy jan Bhageedari sunishchit na ho. Sthaneey star ki Samasyayon va unake samadhan ki behatar jankari unheen ke pas hai……..
Short Description of Svayansevi Sangthanon Ka Gathan Aur PrabandhanPDF Book : People are the biggest resource for the development of any village or town. Problems of development are possible only by the society. Development of village or town will not be possible “unless local public participation is ensured in it. They have better knowledge of local level problems and their solutions ……..
“सृजन का हर कार्य पहले ध्वंस के एक कार्य से शुरू होता है।” – पेब्लो पिकासो
“Every act of creation is first of all an act of destruction.” – Pablo Picasso

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment