स्वामी विवेकानंद जी की निविदायें हिंदी पुस्तक | Swami Vivekanand Quotations Hindi Book Download Here | Free Hindi Books

Book Nameस्वामी विवेकानंद जी की निविदायें हिंदी पुस्तक / Swami Vivekanand Quotations
Author
Category,
Language
Pages 13
Quality Good
Size 150 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ईश्वर ही ईश्वर की उपलब्थि कर सकता है। सभी जीवंत ईश्वर हैं–इस भाव से सब को देखो। मनुष्य का अध्ययन करो, मनुष्य ही जीवन्त काव्य है। जगत में जितने ईसा या बुद्ध हुए हैं, सभी हमारी ज्योति से ज्योतिष्मान हैं। इस ज्योति को छोड़ देने पर ये सब हमारे लिए और अधिक जीवित नहीं रह सकेंगे, मर जाएंगे। तुम अपनी आत्मा के ऊपर स्थिर रहो………

Pustak Ka Vivaran : Ishwar hi Ishvar ki upalabthi kar sakata hai. Sabhi jeevant Ishvar hain–is bhav se sab ko dekho. Manushy ka adhyayan karo, manushy hi jeevant kavy hai. Jagat mein jitane eesa ya buddh huye hain, sabhi hamari jyoti se jyotishmaan hain. Is Jyoti ko chhod dene par ye sab hamare liye aur adhik jeevit nahin rah sakenge, mar jayenge. Tum apni aatma ke oopar sthir raho………

Description about eBook : Only God can achieve God. All are living Gods – look at all with this attitude. Study man, man is living poetry. All the Christ or Buddha who have been in the world are all astrologers by our light. If you leave this flame, all of them will not be able to live any more for us, they will die. You stay on your soul………

“मन जो स्नेह संजो सकता है उन में से सबसे पवित्र है किसी नौ वर्षीय का निश्छल प्रेम।” होलमैन डे
“The purest affection the heart can hold is the honest love of a nine-year-old.” Holman Day

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment