वृद्ध और उसका दरवाजा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Vriddh Aur Uska Daravaja : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameवृद्ध और उसका दरवाजा / Vriddh Aur Uska Daravaja
Author
Category, ,
Language
Pages 18
Quality Good
Size 1149 KB
Download Status Available

वृद्ध और उसका दरवाजा का संछिप्त विवरण : बगीचे में वह सबसे बड़े टमाटर और सबसे तीखी मिर्च उगा सकता था. उसकी मुर्गियाँ खूब बड़ी और सफेद होती थीं और उसके सूअर पानी के गुब्बारों जैसे फूल्ले हुए होते थे. लेकिन जब भी उसकी पत्नी उसे पुकारती वह झटपट बगीचे में आकर कुदाल उठा लेता था और व्यस्त होने का ढोंग करता था. बाद में खाने के समय वह पत्नी से कहता, “सच में, मैंने सुना ही नहीं………..

Vriddh Aur Uska Daravaja PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bageeche mein vah Sabase bade Tamatar aur sabase teekhee mirch uga sakata tha. Usaki Murgiyan khoob badi aur saphed hoti theen aur usake sooar Pani ke Gubbaron jaise phoolle huye hote the. Lekin jab bhee usaki Patni use pukarati vah jhatapat bageeche mein Aakar kudaal utha leta tha aur vyast hone ka dhong karata tha. Bad mein khane ke samay vah Patni se kahata, “Sach mein, mainne suna hee Nahin tha”………….
Short Description of Vriddh Aur Uska Daravaja PDF Book : In the garden he could grow the largest tomatoes and the most hot chillies. His hens were very big and white and his pigs were swollen like water balloons. But whenever his wife used to call him, he would come to the garden and pick up the spade and pretend to be busy. Later at dinner he would say to the wife, “Really, I hadn’t heard” ………….
“तूफ़ानों से पेड़ों की जड़ें और गहरी व मज़बूत होती है।” – क्लॉड मैक्डॉनल्ड
“Storms make trees take deeper roots.” – Claude McDonald

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment