यशपाल और उनकी ‘दिव्या’ : प्रो० भूषण स्वामी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Yashpal Aur Unki Divya : by Prof. Bhushan Swami Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameयशपाल और उनकी 'दिव्या' / Yashpal Aur Unki Divya
Author
Category,
Language
Pages 80
Quality Good
Size 1007 KB
Download Status Available

यशपाल और उनकी ‘दिव्या’ का संछिप्त विवरण : रहन सहन में यशपाल शान-शौकत के हामी है। साहवी लिबास में रहना प्रतिदिन सेब करना और साहित्य की सर्जना करना – यही उनका अब सुव्यवस्थित और नियमित जीवन है। आप आर्यसमाज होते हुए भी समिप भोजन से परहेज नहीं करते। उसका भौचित्य वह यह कहकर करते हैं………

Yashpal Aur Unki Divya PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Rahan sahan mein Yashpal shan-shaukat ke hami hai. Sahavi libas mein rahana pratidin seb karna aur sahity ki sarjana karana – yahi unka ab suvyavasthit aur niyamit jeevan hai. Aap aaryasamaaj hote hue bhee samip bhojan se parahej nahin karate. Usaka bhauchity vah yah kahakar karate hain………
Short Description of Yashpal Aur Unki Divya PDF Book : Yashpal is a man of pride in living. Living in lavish clothes, doing apples every day and creating literature – this is his now organized and regular life. Even though you are Arya Samaj, you do not avoid close food. He justifies it by saying………
“मैं कठिनाईयों से बचने की प्रार्थना नहीं करता हूं, बल्कि मैं उन्हें सहन करने के लिए पर्याप्त सामर्थ्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।” फिलिप ब्रूक्स
“I do not pray for a lighter load, but for a stronger back.” Philip Brookes

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment