१९८७ के पश्चात संघ राज्य सम्बन्ध के बदलते स्वरूप का विश्लेषणात्मक अध्ययन : मेघा बाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | 1987 Ke Pashchat Sangh Rajya Sambandh Ke Badalte Swarup Ka Vishleshanatmak Adhyayan : by Megha Bajpeyi Hindi PDF Book – History (Itihas)

१९८७ के पश्चात संघ राज्य सम्बन्ध के बदलते स्वरूप का विश्लेषणात्मक अध्ययन : मेघा बाजपेयी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | 1987 Ke Pashchat Sangh Rajya Sambandh Ke Badalte Swarup Ka Vishleshanatmak Adhyayan : by Megha Bajpeyi Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name १९८७ के पश्चात संघ राज्य सम्बन्ध के बदलते स्वरूप का विश्लेषणात्मक अध्ययन / 1987 Ke Pashchat Sangh Rajya Sambandh Ke Badalte Swarup Ka Vishleshanatmak Adhyayan
Author
Category, ,
Language
Pages 250
Quality Good
Size 247 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भारतीय लोकतंत्र की जड़ो को मजबूत करने एवं उसकी रक्षा करने के उद्देश्य के केन्द्र राज्य संबंधो को संवैधानिक आधार प्रदान किया गया है, परन्तु संघ राज्य संबंधो का आधार आरम्भ से ही विवाद का विषय रहा है | संविधान सभा में ही आपत्ति की गई थी कि वर्तमान संघीय ढांचे को भारतीय धरातलपर विकसित  किया गया…..

Pustak Ka Vivaran : Bharatiy loktantr ki jado ko majabut karne evan uski raksha karne ke uddeshy ke kendr rajy sambandho ko sanvaidhanik aadhar pradan kiya gaya hai, parantu sangh raajy sambandho ka aadhar aarambh se hi vivad ka vishay raha hai. Sanvidhan sabha mein hi aapatti ki gai thi ki vartaman sanghiy dhanche ko bharatiy dharatal par vikasit kiya gaya…………

Description about eBook : Central state relations have been given a constitutional basis for the purpose of strengthening and protecting the roots of Indian democracy, but the foundation of union state relations has been the subject of controversy since the beginning. It was only in the Constituent Assembly that the current federal structure was developed on the Indian soil……………..

“सफलता खुशी की कुंजी नहीं है। खुशी सफलता की कुंजी है। यदि आप अपने काम को दिल से करते हैं, तो आप ज़रूर सफल होंगे।” हेरमन कैन
“Success is not the key to happiness. Happiness is the key to success. If you love what you are doing, you will be successful.” Herman Cain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment