तन्त्रवाधों में काफी एवं भैरव थाट के रगों में प्रयुक्त बंदिशों का विश्लेषणात्मक अध्ययन : निशा पाठक द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Tantra Bado Me Kafi Awam Bhairaw That Ke Rago Me Prayukt bandisho Ka Vishleshanatmak Adhyayan : by Nisha Pathak Hindi PDF Book

तन्त्रवाधों में काफी एवं भैरव थाट के रगों में प्रयुक्त बंदिशों का विश्लेषणात्मक अध्ययन हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Tantra Bado Me Kafi Awam Bhairaw That Ke Rago Me Prayukt bandisho Ka Vishleshanatmak Adhyayan Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तन्त्रवाधों में काफी एवं भैरव थाट के रगों में प्रयुक्त बंदिशों का विश्लेषणात्मक अध्ययन / Tantra Bado Me Kafi Awam Bhairaw That Ke Rago Me Prayukt bandisho Ka Vishleshanatmak Adhyayan
Category,
Language
Pages 339
Quality Good
Size 31.4 MB
Download Status Available

तन्त्रवाधों में काफी एवं भैरव थाट के रगों में प्रयुक्त बंदिशों का विश्लेषणात्मक अध्ययन का संछिप्त विवरण : संगीत का स्वरूप क्रियात्मक प्रमुख है, वैज्ञानिक गौण है। लेकिन क्रियात्मक संगीत के प्रमाण नहीं मिलते है क्योंकि प्राचीनकाल में आधुनिक उपकरणों के अभाव में संगीत शिक्षा मौखिक दी जाती थी। शास्त्रीय संगीत के क्रियात्मक पक्ष पर अल्प शोध कार्य ही हुआ है, जो हुआ है। वह भी मुख्यतः कंठ संगीत के क्षेत्र में ही किया गया है।….

Tantra Bado Me Kafi Awam Bhairaw That Ke Rago Me Prayukt bandisho Ka Vishleshanatmak Adhyayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sangeet ka svarup kriyatmak pramukh hai, vaigyanik gaun hai. Lekin kriyatmak sangit ke praman nahin milate hai kyonki prachinakal mein Adhunik upakaranon ke abhav mein sangit shiksha maukhik dee jati thi. Shastriy sangit ke kriyatmak paksh par alp shodh kary hi hua hai, jo hua hai. Vah bhi mukhyatah kanth sangit ke kshetr mein hi kiya gaya hai………..
Short Description of Tantra Bado Me Kafi Awam Bhairaw That Ke Rago Me Prayukt bandisho Ka Vishleshanatmak Adhyayan PDF Book : One day the road was completely deserted and quiet, and the sun was shining very rapidly in the sky. Then Miss Moon appeared a man at a distance. He was walking on foot and loudly breathing heavily. There was just a bamboo vaccine on his shoulder, which had hanged the colorful pieces of paper…………..
“वैयक्तिक स्तर पर उदासीनता सामूहिक स्तर पर उन्माद में बदल जाती है।” ‐ डगलस होफ़्स्टेटर
“Apathy at the individual level translates into insanity at the mass level.” ‐ Douglas Hofstadter

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment