आह ! बकरा : उग्रसेन नारंग द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Aah ! Bakra : by Ugrasen Narang Hindi PDF Book – Story (Kahani)

आह ! बकरा : उग्रसेन नारंग द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Aah ! Bakra : by Ugrasen Narang Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आह ! बकरा / Aah ! Bakra
Author
Category, , ,
Language
Pages 163
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

आह ! बकरा का संछिप्त विवरण : कल्याणदास का बाप परनाले के टूटे हुए टीन पर कच्चे कोयलों की केरी बड़े करीने से रख रहा था। उसके पास ही मकके के भुट्टे एक मैली-सी बोरी पर बिखरे पड़े थे। उसने जेब से दियासलाई की डिबिया निकाली और अपनी टोपी की तह में रखी हुई बीड़ी सुलगाई । बीड़ी चूंकि देर से सुलगी थी इसलिए माचिस की तीली करीब-करीब सब फुक चुकी थी, मगर फिर भी उसने तीली को फेंका नहीं । अंगूठे…..

Aah ! Bakra PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kalyandas ka Bap paranale ke toote huye teen par kachche koyalon ki keri bade karine se rakh raha tha. usake pas hi makke ke bhutte ek maili-see bori par bikhare pade the. Usane jeb se diyasalayi ki dibiya nikali aur apani topi ki tah mein rakhi huyi beedi sulagayi . Beedi choonki der se sulagi thee isaliye machis ki teeli karib-karib sab phuk chuki thi, magar phir bhi usane teeli ko phenka nahin . agunthe……..
Short Description of Aah ! Bakra PDF Book : Kalyanadasa’s father was placing Kerry of raw coals neatly on the broken tin of Paranale. Corn corn was scattered on a dirty sack near him. He took out the match box from the pocket and put the bidi in the bottom of his hat. Since the bidi was late, the matchstick was almost burnt, but still it did not throw it. Agutha……..
“तीन चीजों को ज्यादा देर तक छुपाया नहीं जा सकता – सूरज, चांद, और सत्य।” बुद्ध
“Three things cannot be long hidden – the sun, the moon, and the truth.” Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment