उस पार का अंधेरा : सुदर्शन नारंग द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Us Par Ka Andhera : by Sudarshan Narang Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameउस पार का अंधेरा / Us Par Ka Andhera
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 183
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : रात को जब मैं लौटा तो वह सो चुकी थी। बाहर से ही ताला खोल लेने को दोनों के पास अपनी-अपनी चाबी रहती है। विभू से सामना होने की सम्भावना से मुझे घबराहट सी हो रही थी और लगा कि वास्तव में दोष मेरा ही है। अक्सर घबराहट झेलनाहट में बदल जाती है और लगता……

Pustak Ka Vivaran : Rat ko jab main lauta to vah so chuki thi. Bahar se hi tala khol lene ko donon ke pas apni-apni chabi rahati hai. Vibhu se samana hone ki sambhavana se mujhe ghabarahat see ho rahi thi aur laga ki vastav mein dosh mera hi hai. Aksar ghabarahat jhelanahat mein badal jati hai aur lagata…….

Description about eBook : When I returned at night, she was already asleep. Both have their own keys to open the lock from outside. The prospect of encountering Vibhu was terrifying to me and felt that it was my fault. Often the panic turns into suffering and feels…….

“वास्तविक कठिनाईयों को दूर किया जा सकता है; केवल कल्पनात्मक कठिनाईयां को ही पराजित नहीं किया जा सकता है।” थियोडोर एन. वेल
“Real difficulties can be overcome; it is only the imaginary ones that are unconquerable.” Theodore N. Vail

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment