आँचल में दूध – आँखों में पानी : श्री यादवेन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Aanchal Mein Doodh – Aankhon Mein Pani : by Shri Yadvendra Sharma ‘Chandra’ Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameआँचल में दूध – आँखों में पानी / Aanchal Mein Doodh – Aankhon Mein Pani
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 270
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जमींदार साहब ने अपने कन्धों पर चादर डाली और दुखी स्वर में अपने आप से बोले, “गौरंगा प्रश्न॒ हमसे अप्रसन्न है. तभी वर्षा नहीं होती, तभी धरती की प्यास नहीं बुझती, तभी खेतों में यौवन नहीं मचलता, आज मैं गाँव वालों से प्रार्थना करुंगा कि वे सब सम्मिलित रूप से ईश्वर की प्रार्थना करें ताकि ईश्वर अपने अमृत से धरती मां का आंचल हरा भरा करदे ।” जमींदार……

Pustak Ka Vivaran : Jamindar sahab ne apane kandhon par chadar dali aur dukhi svar mein apane aap se bole, “Gauranga prashnu hamase Araprasann hai. Tabhi varsha nahin hoti, tabhi dharati ki pyas nahin bujhati, tabhi kheton mein yauvan nahin machalata, aaj main ganv valon se prarthana karunga ki ve sab sammilit roop se Ishvar ki prarthana karen taki Ishvar apane amrt se dharati man ka aanchal hara bhara karade .” Jamindar……..

Description about eBook : The Zamindar Sahib put a sheet over his shoulders and said to himself in a sad voice, “Gauranga question is beyond us. Then it does not rain, then the thirst of the earth does not quench, then the fields do not foster youth, today I will pray to the villagers to collectively pray to God so that God can fill the earth with Mother’s nectar. landlord……..

“आकार का इतना अधिक महत्त्व नहीं होता है। व्हेल मछली का अस्तित्व खतरे में है जबकि चींटी एक सहज जीवन जी रही है।” ‐ बिल वाघन
“Size isn’t everything. The whale is endangered, while the ant continues to do just fine.” ‐ Bill Vaughan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment