छलना : राजा सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Chhalna : by Raja Singh Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

छलना : राजा सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Chhalna : by Raja Singh Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name छलना / Chhalna
Author
Category, ,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

छलना पुस्तक का कुछ अंश : वह अपने रूम कम आफिस में बैठा रिपोर्ट तैय्यार कर रहा था । क्या लिखकर भेजना है, निर्णय नहीं कर पा रहा था। कोई कायदे की खबर हाथ नहीं लगी थी। कोई सार्थक खबर वह कल से प्रेषित नहीं कर पाया था। लखनऊ से दैनिक राष्ट्र संदेश के सम्पादक का फोन भी आया था। खबर भेजों | कल से आज तक डाक-डिब्बे में भी कोई खबर सूचना नहीं पड़ी थी। कोई भी खबर भेज दो तो, सम्पादक महोदय संतुष्ट नहीं होते। कहते है छपने लायक खबर भेजा करो……….

Chhalna PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Vah apne room kam aaphis mein baitha riport taiyyar kar raha tha . Kya likhkar bhejna hai, nirnay nahin kar pa raha tha. Koi kayade ki khabar hath nahin lagi thi. Koi sarthak khabar vah kal se preshit nahin kar paya tha. Lakhanu se dainik rashtr sandesh ke sampadak ka phon bhi aaya tha. Khabar bhejon . Kal se aaj tak dak-dibbe mein bhi koi khabar suchana nahin padi thi. Koi bhi khabar bhej do to, sampadak mahoday santusht nahin hote. Kahte hai chapne layak khabar bheja karo………….
Short Passage of Chhalna Hindi PDF Book : He was preparing the report sitting in his room’s low office. What was written, was not able to decide. No law was taken by the news. He had not been able to send a meaningful news from yesterday. The phone of the Editor of Daily Nation message came also from Lucknow. Send news There was no news in the post-box till yesterday. If you send any news, the editor is not satisfied. It is said to send a worthy news………….
“एक मूल नियम है कि समान विचारधारा के व्यक्ति एक दूसरे के प्रति आकर्षित होते हैं। नकारात्मक सोच सुनिश्चित रुप से नकारात्मक परिणामो को आकर्षित करती है। इसके विपरीत, यदि कोई व्यक्ति आशा और विश्वास के साथ सोचने को आदत ही बना लेता है तो उसकी सकारात्मक सोच से सृजनात्मक शक्तियों सक्रिय हो जाती हैं- और सफलता उससे दूर जाने की बजाय उसी ओर चलने लगती है” ‐ नार्मन विंसेन्ट पीएले
“There is a basic law that like attracts like. Negative thinking definitely attracts negative results. Conversely, if a person habitually thinks optimistically and hopefully, his positive thinking sets in motion creative forces — and success instead of eluding him flows toward him.” ‐ Norman Vincent Peale

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment