धो डालो : श्रीविद्या वेंकट द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Dho Dalo : by Srividhya Venkat Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameधो डालो / Dho Dalo
Author
Category, ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

धो डालो का संछिप्त विवरण : “मैं मंजन नहीं करना चाहता! जिमी भी तो मंजन नहीं करता!” “जानवर मंजन नहीं करते तो क्‍या, वह भी अपने दाँतों का ध्यान रखते हैं। लेकिन उनके तरीके अलग होते हैं! कीटाणुओं से बचने के लिए हमें अपने दाँतों को साफ़ रखना चाहिए।” “कीटाणु?” “कीटाणु बहुत ही छोटे-छोटे जीव होते हैं जो हमें दिखाई नहीं देते। अगर तुम दाँतों को मंजन और ब्रश से अच्छी तरह से साफ़ नहीं करते तो वह मुँह में रह जाते……..

Dho Dalo PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : “Main Manjan nahin karana chahata! Jimi bhee to Manjan nahin karata!” “Janvar manjan nahin karate to kya, vah bhee apane danton ka dhyan rakhate hain. Lekin unake tareeke alag hote hain! Keetanuon se bachane ke liye hamen apane danton ko saf rakhana chahiye.” “keetanu?” “keetanu bahut hee chhote-chhote jeev hote hain jo hamen dikhaee nahin dete. Agar tum Danton ko manjan aur brash se achchhi tarah se saf nahin karate to vah munh mein rah jate hain……….
Short Description of Dho Dalo PDF Book : “I don’t want to brush! Jimmy doesn’t even mind!” “What if animals don’t brush, they also take care of their teeth. But their methods are different! We must keep our teeth clean to avoid germs.” “Germ?” “Germs are very small creatures that are not visible to us. If you do not clean the teeth with brush and brush, then they remain in the mouth ……….
“एक अच्छी पुस्तक पढ़ने का पता तब चलता है जब उसका आखिरी पृष्ठ पलटते हुए आपका कुछ ऐसा लगे जैसे आपने एक मित्र को खो दिया।” ‐ पॉल स्वीनी
“You know you’ve read a good book when you turn the last page and feel a little as if you have lost a friend.” ‐ Paul Sweeney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment