जीव यात्रा : फुलिपाटि वेंकट सुबय्या द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Jeev Yatra : by Fullipati Venkat Subbaiah Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जीव यात्रा / Jeev Yatra
Author
Category,
Language
Pages 140
Quality Good
Size 3.9 MB
Download Status Available

जीव यात्रा पुस्तक का कुछ अंश : दर्शन के सम्बन्ध में असंख्यक पुस्तके छपी पड़ी हैं| फिर यह नई पुस्तक क्यों? यह प्रश्न प्रप्रथम पाठक के ह्र्दय में दरशन जीवन का एक अभिन्न अंग है और उसे समझने पर जीवन में एक तरह की रूचि एव शांति का अनुभव होता है| जीवन के सच्चे स्वरुप का दर्शन होता है| जिससे जीवन रसमय तथा आनंदमय बन जाता है………….

Jeev Yatra PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Darshan ke sambandh mein asankhyak pustake chhapi padi hain. Phir yah nayi pustak kyon? Yah prashn prapratham pathak ke hrday mein darshan jeevan ka ek abhinn ang hai aur use samajhane par jeevan mein ek tarah ki roochi ev shanti ka anubhav hota hai| jeevan ke sachche svarup ka darshan hota hai. Jisase jeevan rasamay tatha aanandamay ban jata hai………….
Short Passage of Jeev Yatra Hindi PDF Book : Innumerable books have been published regarding philosophy. Then why this new book? This question is an integral part of philosophy of life in the heart of the first reader and on understanding it one experiences a kind of interest and peace in life. The true form of life is seen. Due to which life becomes fun and enjoyable………
“निष्क्रियता से संदेह और डर की उत्पत्ति होती है। क्रियाशीलता से विश्वास और साहस का सृजन होता है। यदि आप डर पर विजय प्राप्त करना चाहते हैं, तो चुपचाप घर पर बैठ कर इसके बारे में विचार न करें। बाहर निकले और व्यस्त रहें।” डेल कार्नेगी
“Inaction breeds doubt and fear. Action breeds confidence and courage. If you want to conquer fear, do not sit home and think about it. Go out and get busy.” Dale Carnegie

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment