फादर कोन्सटंट लीवन्स और दिधिया : भीखू तिरकी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Father Constant Lievens And Dighia : by Bhikhu Tirky Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

Book Nameफादर कोन्सटंट लीवन्स और दिधिया / Father Constant Lievens And Dighia
Author
Category, ,
Language
Pages 176
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

फादर कोन्सटंट लीवन्स और दिधिया का संछिप्त विवरण : दिधिया बेड़ों थाने का एक खुशहाल मौजा है। इस गाँव में चार महतो-शासक और चार पहान-पुजारी थे | गाँव संगठित और सरना धर्म पर अडिग था। 1888 में बाहर से आकर पठान परिवार बसा और घोड़े को मार डालने के बहाने में तीन टोलों के उराँवों को गाँव से मार भगाया और इनके खेतों एवं श्मशानों को दखल कर लिया | इनका अत्याचार गाँव में पूरा…….

Father Constant Lievens And Dighia PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Didhiya bedon thane ka ek khushhal mauja hai. Is Ganv mein char mahato-shasak aur char pahan-pujari the. Ganv sangathit aur sarana dharm par adig tha. 1888 mein bahar se Akar pathan parivar basa aur ghode ko mar dalane ke bahane mein teen tolon ke uranvon ko ganv se mar bhagaya aur inake kheton evan shmashanon ko dakhal kar liya. Inka Atyachar ganv mein poora…….
Short Description of Father Constant Lievens And Dighia PDF Book : Diddhiya is a happy place of the police station. There were four mahato-rulers and four pahan-priests in this village. The village was organized and adamant on the Sarna religion. In 1888, the Pathan family came from outside and in the pretext of killing the horse, drove the Uraons of three Tolls from the village and interfered with their fields and crematoriums. Their atrocities are complete in the village …….
“गुणवत्ता प्रचुरता से अधिक महत्त्वपूर्ण है। एक छक्का दो-दो रन बनाने से कहीं बेहतर है।” ‐ स्टीव जॉब्स
“Quality is more important than quantity. One home run is better than two doubles.” ‐ Steve Jobs

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment