जीवात्मा : पं० गंगाप्रसाद उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jeewatma : by Pt. Gangaprasad Upadhyay Hindi PDF Book – Spiritual ( Adhyatmik )

जीवात्मा : पं० गंगाप्रसाद उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jeewatma : by Pt. Gangaprasad Upadhyay Hindi PDF Book - Spiritual ( Adhyatmik )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जीवात्मा / Jeewatma
Author
Category
Language
Pages 236
Quality Good
Size 42 MB
Download Status Available

जीवात्मा पुस्तक का कुछ अंश : “मैं ” एक विश्वव्यापी शब्द है | बच्चे से लेकर बुड्ढ़े तक और मुर्ख से लेकर बुद्धिमान तक सभी इसका प्रयोग करते है | “मैं खाता हूँ”, “मैं सोता हूँ”, “मैं दुखी हूँ”, ” मैं जीवित हूँ* यह शब्द इतनी अधिकता से प्रयुक्त होता है की साधारण पुरुषो को तो यह तो यह भी विचार नहीं होता कि इसमें किसी प्रकार की विशेषता है……..

Jeewatma PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : “Main ” ek vishvavyapi shabd hai. Bacche se lekar buddhe tak aur murkh se lekar buddhiman tak sabhi iska prayog karte hai. “Main khata hoon”, “main sota hoon”, “main dukhi hoon”, ” main jeevit hoon” yah shabd itni adhikta se prayukt hota hai ki sadharan purusho ko to yah to yah bhi vichar nahin hota ki ismen kisi prakar ki visheshta hai………..
Short Passage of Jeewatma Hindi PDF Book : “I” is a worldwide word. Everyone uses it from child to old age and from fool to intelligent. The word “I am”, “I am sleeping”, “I am sad”, “I am alive” is used so much that ordinary men do not even think that there is any kind of specialty in it…………
“सबसे प्रेम का बर्ताव करें, कुछ एक पर भरोसा करें, और किसी का बुरा न करें।” ‐ विलियम शेक्सपियर, नाटककार और कवि (1564-1616)
“Love all, trust a few, do wrong to none.” ‐ William Shakespeare, playwright and poet (1564-1616)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment