हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

क़ज़ा / Kaja

क़ज़ा : कुलवंत सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kaja : by Kulvant Singh Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name क़ज़ा / Kaja
Author
Category, ,
Language
Pages 95
Quality Good
Size 700 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बंदा था मैं खुदा का, आदिम मुझे बनाया, इंसानियत ने मेरी मुजरिम मुझे बनाया। मांगी सदा दुआ है, दुश्मन को भी ख़ुशी दे हैवानियत दिखा जालिम मुझे बनाया। दिल में जिसे बसाया, की प्यार से ही सेवा, झाँका जो उसके अंदर, खादिम मुझे बनाया। है शर्मसार हरकत अपनों से की उसने केसे बयां करन मैं, नदीम मुझे बनाया। रब ने मुझे सिखाया सबको गले लगाना सच को सदा जिताऊं हातिम मुझे बनाया ………..

 

Pustak Ka Vivaran : Banda tha main khuda ka, Aadim mujhe banaya, Insaniyat ne meri mujarim mujhe banaya. mangee sada duya hai, dushman ko bhee khushee de haivaniyat dikha jalim mujhe banaya. Dil mein jise basaya, kee pyar se hee seva, jhanka jo usake andar, khadim mujhe banaya. hai sharmasar harakat apanon se kee usane kaise bayan karoon main, nadeem mujhe banaya. Rab ne mujhe sikhaya sabako gale lagana sach ko sada jitaoon hatim mujhe banaya…………
Description about eBook : I was the God of God, the primitive made me, humanity made me the criminal. Demand is always blessing, giving happiness to the enemy also made me bloodthirsty. Served lovingly in the heart, that peeped into it, Khadim made me. It is a shameful act with my own people, how can I tell it, Nadeem made me. God taught me to embrace everyone, always live the truth, make me………..
“द्वेष को द्वेष से नहीं बल्कि प्रेम से ही समाप्त किया जा सकता है; यह नियम अटल है।” बुद्ध
“Hatred does not cease by hatred, but only by love; this is the eternal rule.” Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment