खुलकर खाओ फिर भी वजन घटाओ : पूजा मखीजा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Khulkar Khao Phir Bhi Wazan Ghatao : by Pooja Makhija Hindi PDF Book – Health (Svasthya)

खुलकर खाओ फिर भी वजन घटाओ : पूजा मखीजा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - स्वास्थ्य | Khulkar Khao Phir Bhi Wazan Ghatao : by Pooja Makhija Hindi PDF Book - Health (Svasthya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name खुलकर खाओ फिर भी वजन घटाओ / Khulkar Khao Phir Bhi Wazan Ghatao
Author
Category,
Language
Pages 222
Quality Good
Size 3.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यह पुस्तक उन लोगों को समर्पित है, जिन्होंने जितनी गति से अपना वज़न कम किया, उतनी ही गति से दोबारा वज़न बढ़ा लिया है। वे लोग, जो किसी हद तक सोचते हैं कि वज़न के बढ़ने का संबंध ‘शादी-विवाह से, पनर्मिलन से, एक आकस्मिक यादगार दिन से या एक कैलेण्डर से है और को अपना कम बना लेते हैं। जो परिणामों के……..

Pustak Ka Vivaran : Yah Pustak un Logon ko Samarpit hai, Jinhonne Jitni gati se apna vazan kam kiya, utni hi gati se dobara vazan badha liya hai. Ve log, jo kisi had tak sochate hain ki vazan ke badhane ka sambandh shadi-vivah se, panarmilan se, ek Aakasmik yadgar din se ya ek Calendar se hai aur ko apna kam bana lete hain. Jo Parinamon ke………

Description about eBook : This book is dedicated to those people who have gained weight again at the same speed as they lost weight. Those people, who to some extent think that weight gain is related to marriage, reunion, a casual memorable day or a calendar and make them less. Which results………

“आपकी समस्या वास्तविकता में कभी भी आपकी समस्या नहीं होती है, आपकी समस्या के प्रति आपकी प्रतिक्रिया आपकी समस्या होती है।” ‐ ब्राइन किन्से
“Your problem is never really your problem; your reaction to your problem is your problem.” ‐ Brian Kinsey

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment