मुझे धूप चाहिए : गिरिजा कुलश्रेष्ठ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Mujhe Dhoop Chahiye : by Girija Kulshreshth Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameमुझे धूप चाहिए / Mujhe Dhoop Chahiye
Author
Category, , ,
Language
Pages 24
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

मुझे धूप चाहिए का संछिप्त विवरण : पूसी ने कुछ बेचेन होकर अपने बच्चे को पुकारा जो अभी डेढ़ माह का ही था लेकिन माँ के पास रहने की बजाय बाहर मस्ती करने में ज़्यादा रुचि लेने लगा था। पूसी अकेली बैठी ऊब रही थी और काफी देर से उसे बुला रही थी। माँ बनने के बाद उसे किसी पर भरोसा नहीं था और ज़्यादा देर तक बच्चे को अपने से दूर नहीं रख सकती थी । पूसी का सन्देह बेबुनियाद….

Mujhe Dhoop Chahiye PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pusi ne kuchh bechain hokar apne Bachche ko pukara jo abhi dedh mah ka hi tha lekin Maa ke pas rahne ki bajay bahar masti karne mein zyada ruchi lene laga tha. Pusi Akeli baithi oob rahi thi aur kaphi der se use bula rahi thi. Maa banane ke bad use kisi par bharosa nahin tha aur zyada der tak bachche ko apne se door nahin rakh sakti thi . Pusi ka Sandeh bebuniyad……
Short Description of Mujhe Dhoop Chahiye PDF Book : Pusi called out for her baby, who was just one and a half months old, but was taking more interest in having fun outside than being with her mother. Pusi was getting bored sitting alone and had been calling her for a long time. After becoming a mother, she did not trust anyone and could not keep the child away from her for long. Pusi’s suspicion baseless……..
“यदि आप बार बार नहीं गिर रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप कुछ नया नहीं कर रहे हैं।” ‐ वुडी एलन
“If you’re not failing every now and again, it’s a sign you’re not doing anything very innovative.” ‐ Woody Allen

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment