पखवारा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Pakhavara : Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

पखवारा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Pakhavara : Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पखवारा / Pakhavara
Author
Category, , ,
Language
Pages 192
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पखवारा पुस्तक का कुछ अंश : शैशव-काल से ही मैं नहीं जानती कैसे मुझमे एक संस्कार है, जीवन को आँख खोलकर देखने का | देखते-देखते जब भीतर भारी-सा एक संग्रह हो चला तो घर-गृहस्थी के सामान की तरह, उसे ठिकाने लगाने, व्यवस्थित करने की जरुरत पड़ी | मेरी कलम का यह कार्य उसी व्यवस्था का रूप है और सक्षेप में मेरे साहित्य का मनोविज्ञान और इतिहास यही है………

Pakhavara PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Shaishav-kaal se hi main nahin janti kaise mujhme ek sanskar hai, jeevan ko aankh kholkar dekhne ka. Dekhte-dekhte jab bhitar bhari-sa ek sangrah ho chala to ghar-grhasthi ke saman kee tarah, use thikane lagane, vyavasthit karne ki jarurat padi. Meri kalam ka yah kary usi vyavastha ka rup hai aur sakshep mein mere sahity ka manovigyan aur itihas yahi hai…………
Short Passage of Pakhavara Hindi PDF Book : From infancy I do not know how to have a sacrament in me, to see life open. Seeing that when there was a huge collection inside, like home-like material, it needed to be hid, arranged. This work of my pen is the form of the same system and the psychology and history of my literature in this context……………
“प्रेरणा कार्य आरम्भ करने में सहायता करती है। आदत कार्य को जारी रखने में सहायता करती है।” ‐ जिम रयून
“Motivation is what gets you started. Habit is what keeps you going.” ‐ Jim Ryun

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment