पाप की छाया : नानक सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Pap Ki Chhaya : by Nanak Singh Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

पाप की छाया : नानक सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Pap Ki Chhaya : by Nanak Singh Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पाप की छाया / Pap Ki Chhaya
Author
Category, , , ,
Language
Pages 292
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : खाना कया था इसने, पहले ही मरा हुआ था। लोग कहते हैं यह पागल था। पर बहन, मुझे तो इसमें पागलपन का कोई भी लक्षण दिखाई नहीं देता था। कई दिनों से यह दरवाज़े पर आकर खड़ा हो जाता था और घण्टों बोर्ड को पढ़ता रहता था । माता जी ने भी कल कहा था कि कोई पागल है………..

Pustak Ka Vivaran : khana k‍ya tha isane, pahale hi mara huya tha. Log kahate hain yah pagal tha. Par bahan, mujhe to isamen pagalpan ka koi bhi lakshan dikhai nahin deta tha. Kai dinon se yah darvaze par aakar khada ho jata tha aur ghanton board ko padhata rahata tha . Mata ji ne bhee kal kaha tha ki koi pagal hai……..

Description about eBook : What was the food, it was already dead. People say it was crazy. But sister, I did not see any signs of insanity in it. For many days it used to stand at the door and read the board for hours. Mother also said yesterday that someone is crazy……..

“जो व्यक्ति किसी तारे से बंधा होता है वह पीछे नहीं मुड़ता।” ‐ लेओनार्दो दा विंची (१४५२-१५१९), इतालवी कलाकार, संगीतकार एवं वैज्ञानिक
“He who is fixed to a star does not change his mind.” ‐ Leonardo da Vinci (1452-1519), Italian Artist, Composer and Scientist

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment