प्रेम – योग : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Prem – Yog  : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)

प्रेम – योग : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Prem – Yog : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name प्रेम - योग / Prem - Yog
Author
Category, , ,
Language
Pages 188
Quality Good
Size 4.4 MB

पुस्तक का विवरण : सिद्ध होता है कि इस विचार आर विचार यंत्र दोनों पर ही हमारे खाये हुए अन्न का प्रभाव पड़ेगा । विशेष प्रकार के आहार हमारे मन में विशेष प्रकार के विकार उत्पन्न करते हैं यह हम प्रति दिन स्पष्ट रूप से देखते है। और अन्य प्रकार के आहारों का शरीर पर अन्य प्रकार का परिणाम होता है और अन्त में वह मन पर भी बहुत असर पहुँचाता है | इससे हम बहुत………

Pustak Ka Vivaran : Siddh hota hai ki is vichar aar vichar yantra donon par hi hamare khaye huye ann ka prabhav padega . Vishesh prakar ke aahar hamare man mein vishesh prakar ke vikar utpann karate hain yah ham prati din spasht roop se dekhate hai. Aur any prakar ke Aaharon ka shareer par any prakar ka parinam hota hai aur ant mein vah man par bhi bahut asar pahunchata hai. Isase ham bahut………

Description about eBook : It is proved that the food we eat will have an effect on both this thought and the thought machine. Special types of diets create special types of disorders in our mind, this we see clearly every day. And other types of diets have different types of results on the body and in the end they also have a great effect on the mind. This gives us a lot………

“मृत्यु और टैक्स और संतान! इन में से किसी के लिए भी कभी उचित वक़्त नहीं होता।” ‐ माग्रेट मिशेल
“Death and taxes and childbirth! There’s never any convenient time for any of them.” ‐ Margaret Mitchell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “प्रेम – योग : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Prem – Yog  : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Adhyatmik (Spiritual)”

Leave a Comment