पुरातत्त्व-निबन्धावली : राहुल सांकृत्यायन द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Puratatv Nibandhawali : by Rahul Sankrityayan Hindi PDF Book

पुरातत्त्व-निबन्धावली : राहुल सांकृत्यायन द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Puratatv Nibandhawali : by Rahul Sankrityayan Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पुरातत्त्व-निबन्धावली / Puratatv Nibandhawali
Author
Category, ,
Language
Pages 310
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुरातत्त्व-निबन्धावली का संछिप्त विवरण : हिन्दी क्र पुरातत्त्ब-साहित्य को वही आवश्यकता है। भारत के सच्चे इतिहास के निर्माण में “पुरातत्त्व” की सामग्री अत्यन्त उपयोगी है, और, खुदाई आदि के दवारा अभी तक जो कुछ किया गया है, बह दाल में नमक के वराबर है। जब हम यूरोप के सभ्य देशों के कार्य से तुलना करते हैं, तब उसे बहुत अल्प पाते है………

Puratatv Nibandhawali PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hindi mein puratattv-sahity ko vahi avashyakata hai. Bharat ke sachche itihas ke nirman mein “puratattv” ki samagri atyant upayogi hai, aur, khudai adi ke dvara abhi tak jo kuchh kiya gaya hai, vah dal mein namak ke Baravar hai. Jab ham yoorop ke sabhy deshon ke kary se tulana karate hain, tab use vahut alp pate hai…………..
Short Description of Puratatv Nibandhawali PDF Book : Archaeological literature is the only necessity in Hindi. The material of “archaeological” is very useful in the creation of India’s true history, and what has been done by excavation, is still on the salt level, when we compare the work of the civilized countries of Europe. , Then he finds it very short………….
“अगर कोई छोटे मामलों में सच के प्रति लापरवाह होता है तो उस पर बड़े मामलों की जिम्मेदारी नहीं सौंपी जा सकती।” अल्बर्ट आइन्सटाइन
“Whoever is careless with the truth in small matters cannot be trusted with important matters.” Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment