रिसते घाव : बूटा सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Riste Ghav : by Buta Singh Hindi PDF Book – Story ( Kahani )

रिसते घाव : बूटा सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Riste Ghav : by Buta Singh Hindi PDF Book - Story ( Kahani )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रिसते घाव / Riste Ghav
Author
Category, , ,
Language
Pages 18
Quality Good
Size 200 KB
Download Status Available

रिसते घाव पुस्तक का कुछ अंश : और सलमा छोटी और क्लाँरी। वह मेरे साल-सवा सालक़ि बच्चों को उठाए रहती और मुझसे कुछ बड़ी लगती। साथ ही मेरी शक्ल-सूरत और कद बिल्कुल अम्मी-जान की तरह था। हाय! अम्मी को तो नंजर लग गयी, नहीं तो वह अभी कहाँ मरने वाली थी सलमा ने मेरा लड़का उठाया हुआ थायही उसका आसरा था और इसी में वह व्यस्त रहती थी। अकेली औरत को लोग लावारिस माल समझते हैं। बच्चा कुछ भी न कर सकता हो पर माँ उसे आदमी से कम नहीं समझती। सलमा बिल्कुल हिन्दू औरत लगती। उसने बुरका नहीं पहना हुआ था और मैंने काले बुरके के पल्‍ले को सिर पर फेंका हुआ था। इससे मेरा मुँह और नक्श और भी सुन्दर लग रहे थे। सलमा की ओर कोई नहीं देखता था, पर जो भी मेरे पास से गुजर जाता वह एक बार फिर मुड़कर मेरी तरफ देखता…………..

Riste Ghav PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Aur Salma choti aur kvanri. Vah mere saal-sava saal ke bachchon ko uthae rahti aur mujhse kuch badi lagti. Sath hi meri shakl-surat aur kad bilkul ammi-jaan ki tarh tha. Haay! ammi ko to nanjar lag gayi, nahin to vah abhi kahan marne vali thi. Salma ne mera ladka uthaya hua thayahi uska aasra tha aur isi mein vah vyast rahti thi. Akeli aurat ko log lavaris maal samajhte hain. Baccha kuch bhi na kar sakta ho par maan use aadami se kam nahin samajhti. Salma bilkul hindu aurat lagti. Usne burka nahin pahna hua tha aur maine kale burke ke palle ko sir par phenka hua tha. Isse mera munh aur naksh aur bhi sundar lag rahe the. Salma ki or koi nahin dekhta tha, par jo bhi mere paas se gujar jata vah ek baar phir mudkar meri taraph dekhta……………
Short Passage of Riste Ghav Hindi PDF Book : And salma small and quarry She used to pick up children of my year-and-a-half year and seemed a bit older than me. At the same time, my appearance and stature were like a miracle. Oh! Ammi got a nazar, otherwise she was about to die now. Salma had raised my son, he was his shelter and in that he was busy. The people of the loneliness alone understand the people. The child can not do anything, but the mother understands nothing less than the man. Salma seems to be a Hindu woman. He was not wearing a burqa and I was thrown on the head of a black burqa head. With this my mouth and the map looked beautiful too. Nobody looked at Salma, but whoever passed by me turned back once more and looked at me………………
“अपने सम्मान की बजाय अपने चरित्र के प्रति अधिक गम्भीर रहें। आपका चरित्र ही यह बताता है कि आप वास्तव में क्या हैं जबकि आपका सम्मान केवल यही दर्शाता है कि दूसरे आपके बारे में क्या सोचते हैं।” – जॉन वुडन
“Be more concerned with your character than with your reputation. Your character is what you really are while your reputation is merely what others think you are.” – John Wooden

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment