तलवकारोपनिषद : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Talavkaropnishad : Hindi PDF Book – Granth

Book Nameतलवकारोपनिषद / Talavkaropnishad
Category, , ,
Language,
Pages 48
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

तलवकारोपनिषद पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : श्रोत्र मन वाणी प्राण और चक्षु से सुनना आदि चेतन का काम परमात्मा का ही किया है
क्योंकि श्रोत्रादि स्वयं जड हैं। जैसे चुम्बक नहीं चाहता कि मेरे समीप होने से लोहे में क्रिया हो तो भी चुम्बक के
समीप होने पर लोहे में क्रिया होती है वैसे ही श्रेत्रादि बहिकरण और मनआदि अन्तःकरण स्वयं जड हैं पर…

Talavkaropnishad PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shrotra Man vani pran aur chakshu se sunana aadi chetan ka kam paramatma ka hi kiya hai kyonki shrotradi svayan jad hain. Jaise chumbak nahin chahata ki mere sameep hone se lohe mein kriya ho to bhi Chumbak ke sameep hone par lohe mein kriya hoti hai vaise hi Shrotradi bahikaran aur manadi antahkaran svayan jad hain par….

 

Short Description of Talavkaropnishad Hindi PDF Book : Listening with the mind, speech, soul and eyes etc. has done the work of the conscious only because the listeners themselves are root. Just as a magnet does not want iron to act by being close to me, yet action takes place in iron when it is near a magnet, in the same way, listeners, externalities and mind etc…..

 

“सफलता की खुशियां मनाना ठीक है लेकिन असफलताओं से सबक सीखना अधिक महत्त्वपूर्ण है।” ‐ बिल गेट्स
“It is fine to celebrate success but it is more important to heed the lessons of failure.” ‐ Bill Gates

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment